मुंबई। जेट एयरवेज ने रविवार को अलग-अलग स्थानों की 14 उड़ानें रद्द कर दीं। सूत्रों का कहना है कि पायलटों ने बकाया सैलरी न मिलने पर तबीयत खराब की बात कही थी। घाटे में चल रही जेट एयरवेज घाटे में बीते अगस्त से मैनेजमेंट के साथ पायलटों और इंजीनियरों की सैलरी को लेकर तनाव चल रहा है।

एयरलाइंस ने स्टाफ को सितंबर की तनख्वाह तो दे दी लेकिन अभी अक्टूबर और नवंबर की सैलरी बाकी है। सूत्रों ने बताया- "पायलटों ने बीमारी के चलते 14 फ्लाइट्स कैंसिल कर दी गई हैं। वे सैलरी, बकाए और नेशनल एविएटर गिल्ड (एनएजी) के बर्ताव को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं।'' एनएजी जेट एयरवेज के घरेलू पायलटों की संस्था है। यह एक हजार पायलटों का प्रतिनिधित्व करती है।

पायलट असहयोग कर रहे: जेट एयरवेज ने बयान में कहा कि अप्रत्याशित परिचालन परिस्थितियों और पायलटों के असहयोग के कारण उड़ाने बंद कर दी गई हैं। एक अन्य अफसर का कहना है कि कुछ पायलटों ने एयरलाइन के चेयरमैन नरेश गोयल को लिखित में कहा कि वे इन परिस्थितियों में काम नहीं कर सकते।

यात्रियों को दी गई जानकारी: एयरवेज ने यात्रियों को एसएमएस के जरिए फ्लाइट कैंसिल होने की जानकारी दी। यह भी कहा कि उनकी रद्द हुई यात्रा को एडजस्ट या उसका मुआवजा दिया जाएगा। कंपनी की तरफ से कहा गया कि समस्या हल करने के लिए पायलटों और टीम से लगातार बात की जा रही है। बकाए-सैलरी के मुद्दे को जल्द हल किया जाएगा।