By संतोष ठाकुर

जगदलपुर । शासकीय महाविद्यालय चिकित्सालय डिमरापाल में सोमवार को छत्तीसगढ़ परिचारिका कर्मचारी कल्याण संघ ने काली पट्टी बांधकर अपना विरोध जताया है। उन्होंने यह विरोध स्टाफ की कमी को लेकर किया है। कम स्टाफ में कार्य की अधिकता होने के कारण दो स्टाफ नर्सों का 7 माह में ही गर्भपात हो गया था। वहीं स्टाफ नर्स का कहना है कि आने वाले दिनों में अगर उनकी समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो वह उग्र आंदोलन करने के साथ काम का भी बहिष्कार कर देंगे। आंदोलन की सूचना जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन को भी दी गयी है।

हड़ताल के संबंध में अध्यक्ष प्रार्थना राज दास ने कहा कि-‘मेडिकल कॉलेज में स्वीकृत पदों पर भर्तियां नहीं होने के कारण लगातार स्टाफ की कमी बनी हुई है। जिससे काम करने वाली कर्मचारियों को मानसिक व शारीरिक रूप से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। स्टाफ नर्स को एक साथ दो-दो वार्ड देखने के साथ ही वार्ड बॉय का काम भी करना पड़ रहा है। ऐसे में स्टाफ बीमार होने के साथ ही स्टाफ नर्सों के अलावा वार्ड बॉय के पद भी खाली पड़े हैं। जिसे भी स्टाफ नर्स ही निभा रही है। कुछ समय पहले स्टाफ नर्स और वार्ड ब्वॉय के संविदा पद भी निकाले गए थे। लेकिन बाद में उसे भी रद्द कर दिया गया। भर्ती नहीं होने के कारण स्टाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। जिसे लेकर 11 से 13 फरवरी तक काली पट्टी लगाया जाएगा। 14 से 18 फरवरी तक काम का बहिष्कार होगा। तब भी अगर मांग पूरी नहीं की जाती है तो स्टाफ नर्स 19 फरवरी से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली जाएंगी।