संतोष ठाकुर

जगदलपुर। 2 दिन पहले कथित तौर पर साढ़े 17 लाख रुपए के उठाईगिरी के मामले का खुलासा हो गया है। पुलिस महानिरीक्षक बस्तर रेंज विवेकानंद सिन्हा, पुलिस अधीक्षक दीपक झा के मार्गदर्शन तथा अतिरिक्त पुलिस शिक्षक संजय महादेवा ने मामले का खुलासा किया है।

मामले की जानकारी देते हुए पुलिस ने बताया कि 5 जुलाई को आसना जंगलों से शुभम सिंह वीएनआर सीड्स कंपनी के कर्मचारियों का वेतन देने के लिए साढ़े 17 लाख रुपए लेकर जा रहा था, जिसे कुछ अज्ञात लोगों ने लूटकर भागने की जानकारी दी। पुलिस ने शहर में चारों और नाकेबंदी करने के साथी करने के साथी तलाश शुरू कर दी। पुलिस ने जांच में पाया कि राष्ट्रीय राजमार्ग में अधिकारियों के आने जाने के चलते इतनी बड़ी घटना को किसी ने नहीं देखा। वही घटना के समय गुजरने वाले बस टैक्सी चालकों ने भी इस मामले को नहीं देखने की बात कही।

पुलिस ने मोबाइल लोकेशन पर शुभम सिंह और ड्राइवर राजेश सेठिया से जब कड़ाई से पूछताछ की। उन्होंने अपराध स्वीकार करते हुए बताया कि उन्होंने झूठ बोलकर पैसे को खुद ही अपने पास मिल बांटकर रखने का प्लान बनाया, जिसके बाद राजेश सेठिया, शुभम सिंह, रजत सिंह और छवि सेठिया ने आपस में मिलकर पैसे को छुपा लिया था। रजत ने बताया कि पैसा जैतपुरी में उसके घर में रखा गया है पुलिस ने आरोपियों को खिलाफ अपराधिक षड्यंत्र, झूठा रिपोर्ट दर्ज कराने के मामले में गिरफ्तार करते हुए न्यायालय में पेश किया है।