इंदौर। मध्यप्रदेश के इंदौर में साल भर से चल रहे ठगी के व्यापार का पुलिस ने पर्दा फाश किया है। फर्राटेदार इंग्लिश बोलने वाले इस गिरोह के पास 10 लाख से ज़्यादा अमेरिकी नागरिकों की गुप्त जानकारियां पाई गयी हैँ। गिरोह को चलाने वाला एक 8वीं पास व्यक्ति है, जो 75 लोगों के साथ मिलकर अमेरिकी नागरिकों को ठगता था। इस गिरोह मे 19 युवतियाँ भी शामिल हैं।

मध्यप्रदेश साइबर सेल से मिली जानकारी के मुताबिक, जावेद मेनन (28) जो अहमदाबाद का रहने वाला है,पिछले 1 साल से इंदौर मे ठगी का धंधा कर रहा था उसे अमेरिकी अंग्रेजी बोलने मे महारथ हासिल है.उसके ग्रुप मे ज़्यादातर दिल्ली,हरयाणा, उत्तराखंड एवं पडोसी राज्यों के 18-30 की उम्र के लोग  शामिल हैँ,जिनमे ज़्यादातर टेलीकालर हैँ,ये सभी लोग फर्राटेदार अंग्रेजी  बोलते हैँ। इस गिरोह मे 19 लडकियां भी शामिल हैं।

पुलिस को इंदौर के विजय नगर मे संदिग्ध गतिविधियों की सूचना मिली थी,  जिस पर कार्यवाही करते हुए पुलिस को उनके पास से 60 कम्प्यूटर,  70 मोबाईल फ़ोन सहित अन्य गैजेट बरामद हुए हैँ। ये गिरोह अमेरिकी नागरिकों के सामाजिक सुरक्षा नम्बरों को खतरे मे बताकर उन्हें ठगता था। मामले के अंतर्राष्ट्रीय तार होने की वजह से पुलिस ने अमेरिकी एजेंसियों को इसकी जानकारी दे दी गई है, वहीं आरोपियों को हिरासत मे लेकर उसने पूछताछ जारी है।