संतोष ठाकुर 
जगदलपुर। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने आज परीक्षा में खराब परिणाम के विषय में कुलपति को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने छात्रों के हित को ध्यान में रखते हुए कमेटी गठन करने की बात कही,अगर आने वाले दिनों में कोई परिणाम नहीं आता है, तो अभाविप उग्र आंदोलन करने को बाध्य होगा ।
ज्ञात हो की बस्तर विश्वविद्यालय की वार्षिक परीक्षा के अंतिम परिणाम घोषित हुए हैं, जिसमें 46856 विद्यार्थी वार्षिक परीक्षा में शामिल हुए। इनमें से केवल 18951 को ही उत्तीर्ण घोषित किया गया है। किसी भी संकाय का परीक्षा परिणाम 50% भी नहीं है । बड़ी संख्या में विद्यार्थियों को एक व दो तीन नंबर दिए गए हैं, इसी प्रकार से परीक्षा परिणाम देखकर विद्यार्थियों के मन में संदेह उत्पन्न होता है उत्तर पुस्तिका का सही मूल्यांकन हुआ या नहीं ! अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने मांग कि छात्र हित में सभी उत्तर पुस्तिकाओं की पुनर्मूल्यांकन किया जाए, एवम गलत जांच पाए जाने पर संबंधित अधिकारियों, शिक्षक  पर कार्रवाई की जाए एवम पुनर्मूल्यांकन का शुल्क नहीं लिया जाए। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने कहा  छात्र हित में  मांग पूरी नहीं होने पर एबीवीपी छात्र आंदोलन के लिए बाध्य होगी जिसके जवाबदार विश्वविद्यालय प्रबंधन की होगी।इस मामले में कुलपति बस्तर विश्विद्यालय डॉ शैलेन्द्र सिंह का कहना है कि अगर छात्रों को कोई परेशानी है तो वे अपने कॉलेज के प्राचार्य को एक पत्र सौप दें, जिसके बाद उनके रोल नंबर के आधार पर फिर से जांच की जाएगी।इस दौरान पुशान्त रॉय प्रदेश सह मंत्री,कमलेश दीवान जिला संयोजक ,अनिमेष सिंह चौहान नगर मंत्री,काजल शांडिल्य, मयंक नत्थानी,अर्पित मिश्रा, प्रतिज्ञा बाजपेयी, सेजल साव,सत्यम तिवारी,सत्यम सिंह,वैभव पांडेय,प्रशांत आचार्य,अतुल राव,अच्युत सामंत,आदित्य शर्मा,संजय मुखर्जी के साथ अन्य विद्यार्थी उपस्थित थे।