बस्‍तर के गांव से महाशिवरात्रि पर पूजा करने ओडिशा के धनवा स्थित मंदिर गए थे लोग

संतोष ठाकुर

जगदलपुर। महाशिवरात्रि पर बकावंड चौकी अंतर्गत ग्राम नलपावड़ का किसान अपने परिवार के साथ बेटी का मुंडन कराने ओडिशा के ग्राम धनवा स्थित मंदिर में गया था, जहां वह और उसका परिवार मधुमक्खियों के हमले से घायल हो गया। अचानक मंदिर में मधुमक्खियों के झुंड ने उन पर हमला कर दिया। इससे वहां अफरा-तफरी मच गई। मधुमक्खियों के हमले से तीन दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए। कुछ लोगों को इलाज के लिए ओडिशा में भर्ती कराया गया, तो कुछ लोगों को बकावंड ले आए। इसके अलावा 5 मरीजों को बेहतर उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया है।

बस्‍तर के गांव के नलपावड़ से पूजा-अर्चना करने गए परिजनों ने बताया कि लक्कीम पिता पदम 45 वर्ष जो खेती-किसानी का काम करता था। सोमवार को महाशिवरात्रि के अवसर पर अपनी एक वर्ष की बेटी निमिका का मुंडन कराने ओडिशा के ग्राम धनवा मंदिर गया था। यहां परिजनों के साथ दर्शन करने के बाद सुबह लगभग 11 बजे मंदिर के पास एक पेड़ में बने मधुमक्खियों के झुंड ने फैलते धुएं के कारण श्रद्धालुओं पर हमला कर दिया। कई लोग मंदिर में ही घायल हो गए, तो कई भागने के दौरान, आसपास के लोग अपनी वाहन लेकर उपचार कराने पास के स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे। वहीं लक्कीम  के साथ जगूराम व नीलसुंदर भी घायल हो गए।

जान बचाने के लिए कुएं में कूद गए कुछ लोग

मधुमक्खियों से बचने के लिए मंदिर में पहुंचे कुछ लोग नाले व कुएं में कूद गए। बावजूद इसके बड़ी संख्या में लोग मधुमक्खियों के हमले का शिकार हुए। इनमें बच्‍चे, युवा, महिलाएं और बुजुर्ग भी शामिल हैं। हमले के बाद कई श्रद्घालु भी नही दिखे। इनमें से ग्राम नलपावंड के लखी, राजनगर की तनूजा, संजय कुमार, झिटकागुड़ा की सुभद्रा तथा एक अन्य को गंभीर अवस्था में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बकावंड में भर्ती कराए गए हैं। जहां से लक्कीम को बेहतर उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज भेजा।