रमेश गुप्‍ता
भिलाई । भिलाई श्रमिक सभा एचएमएस की बोरिया गेट पर गेट मीटिंग हुई यूनियन के महासचिव प्रमोद कुमार मिश्र ने कहा कि भिलाई इस्पात संयंत्र के सहारे छत्तीसगढ़ में लाखों लोगों का जीवन यापन हो रहा है और केंद्र सरकार भिलाई जैसे कई सार्वजनिक उपक्रमों को खत्म करके निजी हाथों में सौंपने की तैयारी कर रही है इसके लिए हम सबको एकजुट होकर संघर्ष के लिए तैयार होना पड़ेगा।

 अब यहां काम करने वाले कामगारों को इस बात की चिंता है कि प्रायवेट कंपनियां अगर प्‍लांट को संभालेंगी तो कर्मचारियों पर इसका बुरा प्रभाव पड़ेगा। यूनियन के कार्यवाहक अध्यक्ष प्रेम सिंह चंदेल ने कहा कि उत्पादन के पटरी पर आते ही कुछ बाहर से आए अधिकारी  भिलाई की कार्य संस्कृति को खराब करने का प्रयास कर रहे हैं। कर्मचारियों को  नियमानुसार ओवरटाइम नहीं दिया जा रहा । पदाधिकारियों ने कहा कि 5 अप्रैल को ट्विन हार्थ फर्नेस 2 मे हुई दुर्घटना, अचानक ब्लास्ट हो जाना लापरवाही का नतीजा है प्रबंधन को इसकी लीपापोती ना कर जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्यवाही की जानी चाहिए कुछ दिनों पूर्व एक ऑपरेटर के द्वारा चार्जिंग मशीन डी रेल होने पर उसे वार्निंग लेटर दिया गया था तो इतने बड़े हादसे के जिम्मेदार को बख्शा नहीं जाना चाहिए । यूनियन के उप महासचिव डीके सिंह ने कहा कि मोडेक्स प्लांट में दूसरे विभागों से गए वर्करों का इंसेंटिव व पदनाम अभी तक तय नहीं हुआ है ।  कार्यकारिणी सदस्य  देव सिंह ने कहा कि ई एल एवं फेस्टिवल इनकेसमेंट तत्काल शुरू किया । कार्यकारिणी सदस्य अयोध्या प्रसाद तिवारी ने बताया कि भिलाई टाउनशिप में सैकड़ों आवास अवैध कब्जे में हैं।

अब इन हालातों में कर्मचारियों के सभी गुट एक होकर आने वाले दिनों में आंदोलन कर रणनीति बना सकते हैं। ऐसे में प्‍लांट प्रबंधन इससे कैसे निबटेगा ये सवाल अधिकारियों को भी परेशान किए हुए है।