बिलासपुर। मुंबई की तीरा कामत जैसी बिलासपुर के अपोलो अस्पताल में भर्ती 14 महीने के मासूम की हालत है। जिसके इलाज के लिए 22 करोड़ के इंजेक्शन की जरूरत है। SECL कोरबा में ओवरमैन के पद पर काम करने वाले पिता के लिए जो संभव नहीं है। उन्होंने शासन-प्रशासन और लोगों से मदद की गुहाई लगाई है। दरअसल 14 महीने की सृष्टि दुर्लभ बीमारी स्पाइनल मस्कुलर अट्रॉफी से ग्रसित है।

इस दुर्लभ गंभीर बीमारी की वजह से न तो मासूम बैठ पाती है, ना ही गर्दन संभाल सकती है। अब तो वो खुद से सांस भी नहीं ले पा रही है। लिहाजा डॉक्टरों ने उसे वेंटिलेटर सिस्टम पर रखा है। बता दें कि सृष्टि के पिता सतीश झारखंड के रहने वाले हैं। अभी कोरबा स्थित SECL में ओवरमैन के पद पर पदस्थ हैं।

बता दें कि मुंबई में भी ऐसा एक और मामला आया था, जहां पब्लिक डोनेशन के माध्यम से 10 करोड़ से ऊपर की राशि इकट्ठा की गई है और केंद्र सरकार की ओर से भी विदेश से आने वाली इस दवाई पर इंपोर्ट ड्यूटी माफ कर दी गई है। इंपोर्ट ड्यूटी 6 करोड़ रुपए थी।