रमेश गुप्ता

भिलाई। बीएसपी में कर्मचारियों के इंसेंटिव कम होने के मामले में श्रमिक मंच की बैठक ली गई। हालाँकि इस आदेश को साल 2017 में ही लागू कर दिया गया था। कर्मचारियों का कहना है कि उन्हें इस मामले में कोई जानकारी नहीं दी गई और गुप्त रूप से इसे लागू कर दिय गया था। इसके बारे में जानकारी होने पर इस संबंध में सभी यूनियन की बैठक ली गई।   

संयुक्त यूनियन ने कहा कि- प्रोडक्शन इंसेंटिव स्कीम में 1 मार्च 2017 में किये गए फेरबदल के कारण कर्मियों को प्रतिमाह इंसेंटिव के रूप में मिलने वाले 2,500 से 3,200 रुपयों का नुकसान झेलना पड़ रहा है आश्चर्य की बात यह है साल 2017 में हुए फेरबदल के विषय में अब तक उस समय की मान्यता प्राप्त यूनियन और अन्य प्रमुख यूनियन ने कर्मियों को न ही जानकारी दी और न कोई विरोध ही किया बीएसपी कर्मियों का इन्सेंटिव का मिनिमम टारगेट जहाँ 1 मार्च 2017 के पहले एनुअल बिजनेस प्लान(ABP) का 75% होता था उसे बढ़ा कर अब 85% कर दिया गया है| वही रेटेड कैपेसिटी का मिनिमम टारगेट 60% होता था वही उसे अब बढ़ा कर 80% कर दिया गया है। जिससे कई विभाग में इन्सेंटिव शून्य तक हो गया। इस तरह जहां 2007 के बाद 12 साल में कोई इन्सेंटिव पॉलिसी में लाभ वाला सुधार तो नहीं किया गया  बल्कि कर्मियों के लिये उसको और नुकसानदेय बना दिया है।

प्रबंधन ने 2007 में एक नई सिंपलीफाइड इंसेंटिव स्कीम मनाते हुए इंसेंटिव के एक बड़े हिस्से को सीधे एनुअल बिजनेस प्लान से जोड़ दिया जबकि यह एनुअल प्लान कार्लाक्स हर साल प्रबंधन कारपोरेट स्तर पर बढ़ाता रहता है इस मद में मिलने वाली राशि टारगेट का प्रतिशत अचीव करने पर मिलती है इस तरह हर साल उत्पादन बढ़ने के बावजूद कर्मियों को मिलने वाली इंसेंटिव राशि कम होती चली गई वहीँ 2014 में केंद्रीय स्तर पर हुए समझौते ने इंसेंटिव के नई पॉलिसी बनने के दरवाजे भी लगभग बंद कर दिए हैं।

इस बैठक में इस्पात श्रमिक मंच से महासचिव राजेश अग्रवाल, सर्वजीत सिंह किशोर मराठे,  आई एस ठाकुर  सीताराम साहू, गेंद  लाल वर्मा आरडी देशलहारा मुकुंद  गंगवेर दीपक सोनी वीके दुबे,तामेवार ठाकुर  युवराज गौर ,नारायण साहू, गौतम साहू, राजेंद्र रामकेश मीणा मनोज साहू एपी सिंग  आरुण मानकर, युवराज गौर  छत्तीसगढ़ मजदूर संघ की तरफ से शेख महमूद, विनोद सागरकर, डीके सिंह, प्रदीप विश्वास, अरविंद पांडे,  वी सूर गिरवर साहू ,विमल कांत, मंगेश, हरिदास, सुभाष, महाराणा सारथी सहित अन्य साथी मौजूद थे।