बैरन। 13 साल की एक बच्ची को किडनैपर ने करीब 3 महीने तक अपने बेड के नीचे 2 फुट की जगह में छिपाकर रखा। पीड़िता को घंटों तक खाना, पानी और टॉयलेट तक जाने की अनुमति नहीं थी। किडनैपर ने पीड़िता के माता-पिता को मार कर उसका अपहरण कर लिया था। बच्ची इतना डरी हुई थी कि उसने कभी भागने तक कोशिश नहीं की। यह घटना दरअसल अमेरीका की है वहां के अधिकारियों ने बताया कि जेमी क्लॉस नाम की बच्ची का जेक थॉमस पैटरसन ने अपहरण कर लिया गया था। 88वें दिन जेक थॉमस पैटरसन ने अपने रिमोट केबिल को छोड़ा, तो जेमी को आखिरकार आजादी मिल गयी। एक पड़ोसी ने 911 पर कॉल की और उसके बाद पैटरसन को गिरफ्तार कर लिया गया। 

21 साल के पैटरसन को सोमवार को दो लोगों की हत्या करने और एक हथियार के बल पर एक का अपहरण करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया। शिकायत के मुताबिक, पैटरसन वेस्ट बैरन में एक चीज फैक्ट्री में काम कर रहा था। घर से काम पर जाते समय रास्ते में उसने एक स्कूल बस में जेमी को चढ़ते देखा। तभी उसके मन में नापाक इरादों ने जन्म ले लिया। उसने जेमी को किडनैप करने के लिए उसके घर के दो चक्कर लगाए लेकिन दोनों बार वह असफल हो गया। इसके बाद वह घर लौट गया लेकिन उसने तीसरी बार उसने फिर प्रयास किया। काले रंगे के कपड़े, फेस मास्क और ग्लोव्स के साथ उसने एक शॉटगन अपने साथ ली। उसने अधिकारीयों को बताया कि उसने लाइट काट दी थी और ट्रंक को खोलने वाली तार भी हटा दी और रात 1 बजे क्लॉस के घर की तरफ बढ़ा। 

पीड़िता ने जांचकर्ताओं को बताया कि जब भी वह केबिन से बाहर जाता था या लोग उससे मिलने आते थे, वह जेमी से उसके बेड के नीचे एक छोटी सी जगह में छिपने के लिए कहता था। वह बेड के पास बॉक्स और दूसरा भारी सामान रख देता था ताकि कोई जेमी को देख न सके। उसने कहा कि जेमी ने दो बार बाहर आने की कोशिश की। शिकायत में कहा गया है कि क्रिसमस की छुट्टी के दौरान बाहर जाने पर जेमी को 12 घंटों तक बेड के नीचे बिना किसी ब्रेक के रहना पड़ा। यहां तक कि वह टॉयलेट भी नहीं जा सकी। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है उस पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।