जशपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शनिवार को जशपुर पहुंचे। उन्हें देख बच्चों ने उन्हें दादू-दादू कहना शुरू कर दिया। मुख्यमंत्री युवाओं के बीच कका के संबोधन से लोकप्रिय हैं। जशपुर के सलियाटोली भेंट मुलाकात कार्यक्रम में मुख्यमंत्री की बच्चों के बीच लोकप्रियता की प्यारी झलक देखने को मिली। दरअसल सलियाटोली के बच्चे भेंट मुलाक़ात कार्यक्रम में एक बैनर लेकर पहुंचे, जिसपर लिखा था 'भूपेश दादू बेमताटोली रोड को बनवा दो !' । बच्चों के इस मासूमियत भरे अंदाज़ को देखकर मुख्यमंत्री बच्चों पर मुग्ध हो गए और उन्होंने तुरंत बेमताटोली सड़क निर्माण की घोषणा कर बच्चों की मांग को पूरा किया। 

CM  जशपुर जिले के दुलदुला विकासखण्ड के ग्राम पतराटोली के आंगनबाड़ी केन्द्र पहुंचे। यहां उनका स्वागत नन्हे बच्चों ने कागज के पुष्प भेंट कर किया। पतराटोली का आंगनबॉडी केंद्र मॉडल आंगनबाड़ी केंद्र है, जहां 20 बच्चे दर्ज है। खास बात यह है कि यहां एक भी बच्चा कुपोषित नहीं है। इस केन्द्र में सभी बच्चे कुपोषण से मुक्त हो गए हैं। यहां मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से बच्चों का भविष्य संवर रहा है। योजना के तहत 0 से 6 वर्ष के बच्चों को कुपोषण व एनीमिया से बचाने अतिरिक्त पोषण आहार दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां आंगनबाड़ी का निरीक्षण किया। बच्चों से आत्मीयता से बात की और उन्हें चॉकलेट दिया। उनके सुनहरे भविष्य की कामना की। उन्होंने बच्चों से पूछा कि खाने में क्या-क्या मिलता है और इस तरह उनसे बात-बात में जानकारी ले ली। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने महिलाओं को सुपोषण किट भी प्रदान किया। 

केंद्र की कार्यकर्ता ने बताया कि राज्य सरकार की मुख्यमंत्री सुपोषण योजना के तहत बच्चों को पौष्टिक आहार दिया जाता है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा लागातार हेल्थ चेकअप भी किया जाता है। इस आंगनबाड़ी केन्द्र में 20 बच्चे अपना भविष्य संवार रहे हैं।