प्योंगयांग। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग उत्तर कोरिया के ऐतिहासिक दौरे मे हैं। जिनपिंग और उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग के बीच आधिकारिक तौर पर मुलाक़ात हुई है। 14 साल बाद किसी चीनी राष्ट्रपति ने उत्तर कोरिया का दौरा किया है।

दैनिक भास्कर के अनुसार दोनों देशों के प्रमुखों के बीच परमाणु मुद्दों और प्रतिबंधो को लेकर बातचीत हुई है। बीते सालों में चीन और उत्तर कोरिया अपने रिश्ते बेहतर बनाने की कोशिशों में जुटे हुए हैं। अमेरिका ने उत्तर कोरिया पर कई प्रतिबन्ध लगाए हैं वहीँ चीन, उत्तर कोरिया पर लगाए प्रतिबंधों को हटाने की वकालत करता रहा है। पिछले साल किम जोंग उन 4 बार चीन गए थे। अब अमेरिका और चीन के बीच बढ़ते व्यापारिक तनाव के मद्देनज़र जिनपिंग का ये दौरा बेहद अहम माना जा रहा है।

जिनपिंग के दौरे को उत्तर कोरियाई मीडिया ने काफी महत्वपूर्ण बताया। सरकार के मुखपत्र रोडोंग सिनमुन ने लिखा है कि- ‘चीनी राष्ट्रपति का हमारे यहां आना दिखाता है कि चीन-उत्तर कोरिया के रिश्ते काफी अहमियत रखते हैं। हमारे देश को चीन के लोगों के इस भरोसे पर गर्व है।’

गौरतलब है कि अपने तानाशाह स्वभाव से दूर, किम जोंग दुनिया के प्रभावशाली नेताओं से मुलाक़ात कर रहे हैं। किम की अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से दो मुलाकातें सिंगापुर (12 जून 2018) और वियतनाम (28 फरवरी) में हो चुकी हैं। इसी साल अप्रैल में किम ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से भी पहली मुलाकात की थी।