नई दिल्ली 17वें लोकसभा के लिए के प्रथम चरण का मतदान पूरा हो चुका है और दूसरे चरण का मतदान 18 अप्रैल को है। 18 अप्रैल को 13 राज्यों की 97 सीटों के लिए वोटिंग होगी। इस बीच एक रिपोर्ट सामने आई है जिसमें सबसे ज्यादा पैसों वाले प्रत्याशियों के बारे में जानकारी दी गई है। इस रिपोर्ट को प्रत्याशियों के नामांकन हलफनामे के आधार पर बनाया गया है। रिपोर्ट का कहना है कि दूसरे चरण के लिए चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों में सबसे ज्यादा पैसे वाले कांग्रेसी उम्मीदवार हैं।

गौरतलब है कि दूसरे चरण में छत्तीसगढ़ की 3 सीटों समेत, असम और बिहार की 5, जम्मू कश्मीर की दो, कर्नाटक की 14, महाराष्ट्र की 10, मणिपुर की एक, ओडिशा की 5, तमिलनाडु की 39 , उत्तर प्रदेश के 8, पश्चिम बंगाल की 3 और पौण्डीचेरी की 1 सीट पर मतदान होगा।  एडीआर रिपोर्ट के मुताबिक, दूसरे चरण के 1644 में से 1590 उम्मीदवारों में करीब 27 फीसदी यानी 423 उम्मीदवारों की संपत्ति 1 करोड़ या उससे ज्यादा है। सबसे ज्यादा संपत्ति कांग्रेस प्रत्याशियों की है। कांग्रेस के 53 में से 46 उम्मीदवारों ने अपनी संपत्ति 1 करोड़ रुपए से ज्यादा बताई है।

वहीं, भाजपा के 51 में 45 उम्मीदवारों ने अपनी संपत्ति 1 करोड़ रुपए से ज्यादा बताई है। डीएमके के 24 में से 23, एआईएडीएमके के सभी 22 उम्मीदवार और बीएसपी के 80 में से 21 उम्मीदवार की संपत्ति की कीमत 1 करोड़ रुपये से ज्यादा है। इस तरह लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों की औसत संपत्ति करीब 3 करोड़ 90 लाख है।

दूसरे चरण के उम्मीदवारों में सबसे ज्यादा अमीर कांग्रेस पार्टी के एच वसंताकुमार हैं। वसंताकुमार तमिलनाडु की कन्याकुमारी सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। उनकी संपत्ति 417 करोड़ रुपए है। दूसरे नंबर पर हैं बिहार के पूर्णिया सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे उदय सिंह। नामांकन हलफनामे के मुताबिक, उनकी कुल संपत्ति 341 करोड़ रुपए है। तीसरे नंबर पर कांग्रेस के प्रत्याशी डीके सुरेश का नाम आता है। सुरेश कर्नाटक की बेंगलुरु ग्रामीण सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। उनकी संपत्ति 338 करोड़ रुपए है।