कॉर्पोरेट

कॉर्पोरेट

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रायपुर। प्रदीप टंडन वर्तमान में छत्तीसगढ़ के रायपुर में स्थित जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड में अध्यक्ष के रूप में कार्यरत हैं। इससे पहले वे पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स के यूपी काउंसिल के सहअध्यक्ष थे और बजाज ग्रुप के अध्यक्ष-बिजनेस डेवलपमेंट के रूप में जुड़े हुए थे। बजाज ग्रुप के पास ललितपुर में 660 मेगावॉट पावर प्लांट है और लगभग 16 चीनी कारखानों में 450 मेगावाट के पावर प्लांट हैं, इस समय में वे उत्तरप्रदेश राज्य में हैं।

उन्होंने रायपुर में 1500 कर्मचारी वाले जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड के रायपुर भारी उद्योग की निर्माण इकाई के लिए कार्यकारी उपाध्यक्ष और स्थानिय प्रमुख के रूप में 2007-15 तक काम किया है। वह मीडिया संबंधों और सामाजिक जिम्मेदारी के मुद्दों के साथ छत्तीसगढ़ में अपने इस्पात, सीमेंट, बिजली और खनन कारोबार के लिए सरकार के साथ जिंदल समूहों की गतिविधि का समन्वय भी किया।

उन्होंने एस्सार और वेदांत के साथ भी काम किया है। उनके पास लगभग 26 वर्ष का कॉर्पोरेट मामलों, मीडिया संबंधों, सुविधा प्रबंधन, कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी और सामान्य प्रशासन पर ध्यान देने के साथ ही वे व्यवसाय प्रशासन के संपूर्ण तंत्र में काम करने का अनुभव है।

वे लखनऊ से ताल्लुक रखते हैं और मानविकी में पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद लखनऊ यूनिवर्सिटी से एम.बी.ए. किया, जिसमें मेरिट के क्रम में वे पहले स्थान पर रहे। वे चार साल के लिए पी. एच. डी. चैंबर ऑफ कॉमर्स के छत्तीसगढ़ परिषद के अध्यक्ष रहे और फिक्की चैंबर की अध्यक्षता धारण करने से पहले वे एक वर्ष के लिए उत्तरप्रदेश में उपाध्यक्ष भी रहे।

वे छत्तीसगढ़ राइफल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष, कौशल विकास पर राष्ट्रीय परिषद के सदस्य,  छत्तीसगढ़ में नवाचार पर राज्य परिषद के सदस्य, खेल एवं समाज कल्याण के प्रोत्साहन के क्षेत्र में सक्रिय रूप से कार्यरत हैं। उन्होंने दिसंबर 2014 में इंडिया हैबिटेट सेंटर, नई दिल्ली में ट्रांसफॉर्मिंग इंडस्ट्रियल एनवायरनमेंट अवार्ड जीता और बड़े पैमाने पर समाज को शिक्षित करके उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए अनुकूल माहौल बनाया है।

कॉर्पोरेट

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रायपुर। डिजिटल लेन-देन की सबसे बड़ी कंपनी पेटीएम ने अपने ग्राहकों के लिए उधार खाता शुरू किया है। उधार खाते के तहत पेटीएम अपने यूजर्स को 60 हजार रुपए तक का उधार दे रहा है। खास बात ये है कि पेटीएम इस उधारी पर कोई ब्याज भी नहीं ले रहा है। पेटीएम ने इस सेवा को पेटीएम पोस्टपेड सर्विस नाम दिया है। यह फीचर फिलहाल बीटा वर्जन पर ही उपलब्ध है। इस सर्विस के जरिए यूजर 60 हजार रुपए तक खर्च कर सकता है जिसका बाद में भुगतान कर सकता है।

इस सर्विस के तहत आप मोबाइल रिचार्ज, डीटीएच कनेक्शन रिचार्ज, मूवी टिकट्स की बुकिंग और पेटीएम ऑनलाइन मार्केटप्लेस पर शॉपिंग पर जमकर शॉपिंग कर सकते हैं। सात तारीख तक भुगतान पर कोई चार्ज नहीं यूजर को हर महीने की पहली तारीख को बिल भेजा जाएगा और 7 तारीख तक भुगतान करने पर कोई भी चार्ज या ब्याज नहीं लगेगा। बिल का भुगतान एक ओटीपी या पिन के जरिए किया जा सकेगा। समय पर भुगतान नहीं करने पर यूजर का एकाउंट डिएक्टिवेट कर दिया जाएगा।

पेटीएम बैंक में बचत व चालू खाता भी खोल सकते हैं

आरबीआई से मंजूरी मिलने के बाद पेटीएम पेमेंट बैंक ने नए ग्राहक जोड़ने और बैंक वॉलिट ग्राहकों के लिए केवाईसी फिर से शुरू कर दी है। पेटीएम ने कहा है कि अब लोग उनके पेटीएम बैंक में बचत और चालू खाता खोल सकते हैं। पेमेंट बैंक एक रुपए तक की राशि स्वीकार कर सकता है। पेटीएम पेमेंट्स बैंक सेवा में पेटीएम में इस साल के अंत तक 10 करोड़ ने ग्राहक जोड़ने का लक्ष्य रखा है। कैसे करें सर्विस एक्टिवेट पेटीएम की उधार सर्विस को शुरू करने के लिए पेटीएम ऐप में लॉगिन करना होगा। पेटीएम पोस्टपेट बैनर पर क्लिक करना होगा। इसके बाद एक्टिवेट माय पेटीएम पोस्टपेड बटन पर टैप करके इस सेवा का फायदा उठाया जा सकता है। पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने फिर शुरू की केवाईसी रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से हरी झंडी मिलने के बाद पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड ने ‘नो योर कस्टमर' (केवाईसी) प्रक्रिया को फिर शुरू कर दिया है। बता दें कि आरबीआई ने पेटीएम बैंक की केवाईसी प्रक्रिया पर सवाल उठाए थे। इसके बाद पेटीएम ने अपने सिस्टम में कुछ बदलाव किए थे, जिसके बाद आरबीआई ने पेटीएम पेमेंट बैंक को काम करने की हरी झंडी दे दी।

Previous Next

कॉर्पोरेट

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रायपुर। देशभर में ऑनलाइन वॉलेट को यूज करने वाले यूजर्स की संख्या बढ़ती जा रही है। इसमें Paytm, PhonePe, GooglePay, AmazonPay के साथ कई दूसरे वॉलेट शामिल हैं। हालांकि, कई बार इन वॉलेट से पैसे गायब होने के मामले सामने आए हैं। ऐसे में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने इस फ्रॉड को रोकने के लिए नए नियम बनाए हैं। इन नियमों की चलते ऐसे वॉलेट को यूज करने वाले यूजर्स धोखाधड़ी से बच पाएंगे।

1. फरवरी 2019 के बाद बिना KYC वेरिफिकेशन के कोई यूजर मोबाइल वॉलेट का यूज नहीं कर पाएंगे।

2. ऑनलाइन वॉलेट की सुविधा वाली सभी कंपनियों को अब कॉन्टैक्ट नंबर और ईमेल आईडी देना होगी। ताकि किसी वजह से कस्टमर कोई रिपोर्ट करना चाहे तब आसानी से कर सके।

3. मोबाइल वॉलेट कंपनी जैसे Paytm, PhonePe, AmazonPay या अन्य को इस बात पर ध्यान रखना होगा कि यूजर्स SMS अलर्ट, इमेल और नोटिफिकेशन के लिए रजिस्टर करवाएं।

4. किसी भी कस्टमर के साथ धोखाधड़ी नहीं हो इसके लिए मोबाइल वॉलेट कंपनियां 24X7 कस्टमर केयर हेल्पलाइन की शुरूआत करेंगी।

5. किसी यूजर के साथ धोखाधड़ी होती है और इसके लिए मोबाइल वॉलेट प्रोवाइडर जिम्मेदार है, तो यूजर को नुकसान हुए पैसों को 3 दिनों के अंदर पूरा रिफंड किया जाएगा।

6. यदि ऐसे किसी मामले में जब कस्टमर के साथ फ्रॉड हुआ है, लेकिन वो शिकायत नहीं कर पाया, तब भी वॉलेट प्रोवाइडर को पूरा पैसा रिफंड करना होगा।

7. किसी यूजर के साथ फ्रॉड हुआ जिसकी शिकायत उसने 4 से 7 दिनों के अंदर की है और उसकी कुल राशि 10000 रुपए के नीचे है, तब भी कंपनी को रिफंड देना होगा।

8. अगर फ्रॉड की शिकायत 7 दिनों के अंदर की गई है तब रिफंड को RBI के तहत करना होगा।

9. रिफंड से जुड़े सभी मामलों को कंपनी 10 दिनों के अंदर सॉल्व करना होगा। यदि कंपनी के साथ कोई विवाद है तो उसे भी 90 दिनों के अंदर खत्म करना होगा।

10. यदि किसी यूजर की शिकायत को 90 दिनों के अंदर नहीं सुलझाया तो कंपनी को पूरा रिफंड चुकाना होगा।

The Voices FB