कॉर्पोरेट

रायपुर

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रायपुर । कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने केंद्रीय वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु को एक पत्र भेजा है। जिसमें स्पष्ट रूप से आगाह किया गया है कि यदि सरकार ने किसी भी दबाव में आकर ई-कॉमर्स पर एफडीआई पॉलिसी को लागू करने की तारीख 1 फरवरी से आगे बढ़ाया या स्थगित किया, तो सरकार के इस फैसले के देश के 7 करोड़ व्यापारी एक राष्ट्रीय अभियान छेड़ देंगे। व्यापारियों ने ई-कॉमर्स कम्पनियों को समय देने की बजाय उन पर कार्रवाई करने की मांग की है।

कैट के पदाधिकारियों का कहना है कि यह मामला अब छोटे व्यापारियों और बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों के बीच का है और देखना है कि सरकार किसका पक्ष लेती है। देश में लगभग 7 करोड़ व्यापारी हैं जो लगभग 30 करोड़ लोगों को रोजगार देते हैं और देश का रिटेल व्यापार प्रतिवर्ष लगभग 42 लाख करोड़ रुपये का है, जिस पर कब्ज़ा जमाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय कंपनियों ने ई-कॉमर्स का रास्ता चुना है।

ई-कॉमर्स कंपनियों ने कहा है कि उन्हें पालिसी समझने का कुछ और वक़्त चाहिए इसलिए उन्होंने पालिसी की अंतिम तारीख को आगे बढ़ाने का अनुरोध  किया है।

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी.भरतिया, राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर परवानी ने वाणिज्य मंत्री को भेजे पत्र में कहा है कि –‘इस बात से यह साफ है की ये कंपनियां गत दो वर्षों से पालिसी का उल्लंघन कर रही थी और उनका सारा व्यापार केवल अस्वस्थ व्यापारिक नीतियों पर टिका था और ऐसे में उनके पालिसी उल्लंघन को ठीक करने के लिए सरकार उनको वक़्त दे जो कतई भी उचित नहीं होगा। इन कंपनियों ने गत दो वर्षों में पालिसी का उल्लंघन किया है उसकी जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया जाए और दोषी कंपनियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए।

यह जानकारी कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष मगेलाल मालू, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष विक्रम सिंहदेव, प्रदेश महामंत्री जितेन्द्र दोषी, प्रदेश कार्यकारी महामंत्री परमानन्द जैन, प्रदेश कोषाध्यक्ष अजय अग्रवाल, एवं प्रवक्ता राजकुमार राठी ने पत्र लिखकर दी है।

बस्तर संभाग

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By संतोष ठाकुर

जगदलपुर। महिला समृद्धि बाजार संजय बाजार के प्रथम तल के दुकानों का आबंटन हुआ। यह प्रक्रिया जिला कार्यालय के आस्था हॉल मे मंगलवार की दोपहर महापौर जतीन जायसवाल के अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ। जिसमें जिला पंचायत सीईओ प्रभात मलिक व निगम ईई एन एन उपाध्याय, सीएसपी हेमसागर सिदार व अन्य अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

इस कारवाई मे निगम द्वारा पहले कुल 75 दुकानों के लिये आवेदन मंगाया गया था। निगम में कुल 85 आवेदन पत्र महिलाओं द्वारा प्राप्त हुये। आवेदनों की जांच उपरांत 25 आवेदन ही पात्र पाये गये। जिसका मंगलवार को जिला कार्यालय के आस्था हॉल मे लॉटरी के माध्यम से आबंटन किया गया। इस दौरान प्रभारी राजस्व अधिकारी राकेश यादव व दिनेश सिंह, कुलदीप पाणिग्रही, आशीष कोर्राम भी उपस्थित थे।

कांकेर

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By पुनेश यादव

कांकेर। भानुप्रतापपुर में प्रमुख बैंकों तथा एटीएम में इन दिनों पर्याप्त नगद राशि नहीं मिलने से लोग बेहद परेशान हैं। उपभोक्ताओं को विड्राल फार्म तक के लिए भी भटकना पड़ रहा है। नगर में 5 से 6 एटीएम है, लेकिन इन एटीएम में भी हमेशा कैश की किल्लत रहती है या लिंक फेल रहता है।

एटीएम में लंबी लाइन लगी रहती है इसलिए कैश डालने के कुछ घंटों बाद ही कैश खत्म हो जाता है। ग्राहकों को जरूरत के अनुसार पैसा नहीं मिलने से उनमें नाराजगी देखने को मिल रही है। दूर-दराज से आये हुए ग्रामीण भी पैसा नहीं निकलने की समस्या से परेशान हो रहे हैं। कुछ  बैंकों में ग्राहकों को ग्राहक सेवा केंद्र जाने या एटीएम से पैसे निकालने को कहा जाता है। जिला सहकारी बैंक में भानुप्रतापपुर एवं दुर्गूकोंदल के किसानों का लेन-देन रहता है। ग्रामीण बड़ी उम्मीद से यहां पैसा लेने पहुंचते है, लेकिन उन्हें 5 से 10 हजार में ही संतुष्ट होना पडता है। ग्रामीणों को भारी इंतजार के बाद उनका नंबर लगता है।

जिला सहकारी बैंक के मैनेजर भुवन तिवारी का कहना है बैंकों में पर्याप्त पैसे नहीं पहुंच पाने के चलते कैश की समस्या हो रही है। 5 से 10 हजार तक ग्रामीणों को राशि दी जा रही है, जिन ग्राहकों को इमरजेंसी में अधिक राशि की जरूरत होती है। उन्हें दो-चार दिन के बाद व्यवस्था करके राशि उपलब्ध कराया जाता है।

The Voices FB