पति पत्नी सोने के लिए गये तभी भतीजे ने कर दी हत्या

भोपाल रिटायर्ड वनकर्मी और उनकी पत्नी के कत्ल की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। दरअसल बैंक खाते से रकम निकाले जाने की शिकायत के लिए दंपती बुधवार को थाने जाने वाले थे। उससे पहले ही भतीजे ने दंपति की हत्या कर दी। भतीजे ने कहा कि अभी आप लोग आराम कर लो। जैसे ही दंपति को नींद लगी भतीजे ने एक-एक कर दोनों का कत्ल कर दिया।

यह घटना नर्मदा भवन के पास प्रियदर्शिनी नगर की है, जहां डालचंद रजक और उनकी पत्नी बेटी बाई के साथ बुधवार दोपहर हुई थी। शक दंपति के भतीजे मनीष पर ही था। इसलिए टीम ने उससे सवाल शुरू किए। उससे पूछे गए 20 सवालों के जवाब वेरिफाई करने पर गलत निकले। बुधवार रात करीब 9 बजे पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया था। गुरुवार दोपहर करीब साढ़े तीन बजे तक वह अपने झूठ पर अड़ा रहा। पुलिस ने उससे कहा कि तेरे पिता को भी इस बारे में सब मालूम था, अब तो उन्हें भी आरोपी बनाया जाएगा। पुलिस के इस तरीके को वह भांप नहीं पाया और असल कहानी उगल दी। 

एएसपी अखिल पटेल ने बताया कि आरोपी ने अपने सगे बड़े पापा का कुशन से गला घोंटा ताकि आवाज न हो। फिर सिलबट्टे से उनके सिर पर वार किया।इसके बाद दूसरे कमरे में सो रही बड़ी मम्मी का कुशन से दम घोंटकर उनका सर्जिकल ब्लेड से गला घोंट दिया। 

दरअसल डालचंद ने दो दिन पहले मकान बनाने वाले कांट्रेक्टर सतीश को 50-50 हजार के तीन चेक दिए थे। बैंक ने सतीश को खाते में इतनी रकम न होने का हवाला देते हुए चेक लौटा दिए। ये बात सतीश ने डालचंद को बताई। उन्होंने पासबुक की एंट्री करवाई तो पता चला कि खाते में 36 हजार ही बचे हैं। एंट्री इतनी ज्यादा थी कि उनकी दो पासबुक भर गई थीं। डालचंद को पूरा शक मनीष पर था। इसे लेकर उन्होंने सतीश के सामने ही मनीष से सवाल किए तो वह बहस करने लगा। उन्होंने ये सवाल मनीष की दुकान के पास ही किया था, जहां से वह एमपी ऑनलाइन का काम संचालित करता है। पुलिस पूछताछ में उसने एटीएम कार्ड और बैंक पासबुक एक थैले में रखकर पास के नाले में फेंकने की बात कबूल की थी। कर्ज बढ़ने के कारण उसने वारदात को अंजाम दिया।