रायपुर। मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने जिन संविदा कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त कर दी थीं, उन सभी को हरेली के दिन फिर से सेवा में बहाल करने का निर्णय लिया है। इसी तर्ज पर छत्तीसगढ़ के पिछले एक साल में बर्खास्त किये गये अनियमित कर्मचारियों को तत्काल सेवा में वापस लेने की मांग की है।

छत्तीसगढ़ प्रदेश तृतीय वर्ग कर्मचारी संध एवं छत्तीसगढ़़ संयुक्त प्रगतिशील कर्मचारी महासंध ने पिछले एक साल में प्रदेश के विभिन्न विभागों में सेवारत अनियमित कर्मचारियों जिसमें संविदा, प्लेस मेंट, दैनिक वेतन भोगी, कलेकटर दर, जॉब दर, 108-102 संजीवनी-महतारी, ठेका कर्मचारियों को रोगद्वेष से बदले की भावना से बर्खास्त किया गया है, उन्हें तत्काल सेवा में वापस लेने तथा उन्हीं विभाग में रिक्त पदों पर नियमितिकरण कार्यवाही करने की मांग मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से की है।

प्रदेश तृतीय वर्ग कर्मचारी संध के प्रांतीय प्रवक्ता व संयुक्त प्रगतिशील कर्मचारी महासंध के संरक्षक विजय कुमार झा, जिला शाखा अध्यक्ष इदरीश खान, महासंध के प्रांतीय अध्यक्ष गोपाल प्रसाद साहू कार्यकारी अध्यक्ष बजरंग मिश्रा, प्रदेश सचिव राजकुमार कुशवाहा ने बताया कि मध्यप्रदेश सरकार के निर्णय के अनुरूप छत्तीसगढ़ में भी पूर्व में सेवा समाप्ति के लिए गए निर्णय को वापस लिया जाकर सेवा में बहाल करने, नियमितिकरण करने व रिक्त पदों पर सीधी भर्ती बंद कर मुख्यमंत्री भूपेश बधेल और स्वास्थ मंत्री टी.एस.सिंहदेव से वादा पूरा करने की अपील की गई है।

हरेली त्यौहार के दिन प्रदेश के कलेकटर, तहसील कार्यालय व मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालयों में विधानसभा लोकसभा चुनावों में नियुक्त 516 कर्मियों की सेवाएं समाप्ति निर्णय लिए जाने से पूरे प्रदेश में आक्रोश है। इसी प्रकार सूरजपुर में स्वास्थ विभाग में 25, मार्कफेड में 1975 कर्मी, 653 कम्प्यूटर शिक्षक, स्कूल शिक्षा विभाग के 31 बी.पी.ओ., करोड़ों रूपये के आबंटन उपलब्ध होने के बाद भी मनरेगा के 180, दंतेवाड़ा के 241 अतिथी शिक्षक, गृह निर्माण मण्डल के 340, निक्सी के माध्यम से नियुक्त 705, महिला बाल विकास से 672 कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त की गई है।

संध के प्रांतीय सचिव अजय तिवारी, संभागीय अध्यक्ष उमेश मुदलियार, महासंध के उपाध्यक्ष प्रेम प्रकाश गजेन्द्र, प्रदेश प्रवक्ता धर्मेन्द्र राजपूत और राधेश्याम देवांगन ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नियमितिकरण करने व सीधी भर्ती पर रोक लगाने के साथ-साथ सेवा समाप्त सभी साथियों की वापसी की मांग की है।