रायपुर। साल का सबसे बड़ा त्यौहार दीपावली। जब सब अपनों के साथ इसकी ख़ुशी बाँट रहे थे तब एक वर्ग ऐसा भी था जो अपनी मांगों को लेकर दिवाली की खुशियां नहीं बाँट सके। जी हाँ हम बात कर रहे हैं स्वास्थ्य संयोजकों की। स्वास्थ्य संयोजकों के परिवार ने इस बार दीपावली नही मनाने के साथ ही कर्मचारियों ने चुनाव बहिष्कार का भी एलान कर दिया है। वहीं स्वास्थ्य संयोजकों के इस फैसले को तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ ने भी अपना समर्थन दिया है।

वेतन विसंगति को दूर करने के लिए स्वास्थ्य संयोजकों ने पिछले दिनों हड़ताल की थी, जिसके चलते 1262 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया था। 45 दिनों तक चली इस हड़ताल के बाद स्वास्थ्य संयोजकों ने बिना किसी शर्त के अपनी हड़ताल वापस भी ले ली थी। स्वास्थ्य संयोजकों का कहना है कि, 3 महीने से उन्हें वेतन नहीं मिला है जिसकी वजह से उन्हें और उनके परिवार को आर्थिक तंगी से गुजरना पड़ रहा है। कई बार स्वास्थ्य सचिव को इस संबध में पत्र भी ​लिखा पर हमारी गुहार नहीं सुनी गई। वहीं मुख्य निर्वाचन अधिकारियों ने भी उन्हें निराश किया है।