रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश लिपिक वर्गीय शासकीय कर्मचारी संघ के बलरामपुर जिला इकाई इन दिनों आंदोलन पर है। आज हड़ताल का चौथा दिन है. आज यहाँ के कर्मचारियों ने जिला अध्यक्ष रमेश कुमार तिवारी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन सौंपा है, जिसमें उन्होंने वेतन सम्बन्धी विसंगतियों को दूर करने और राजस्थान की तर्ज़ पर छत्तीसगढ़ में व्यवस्था निर्मित करने की मांग की है। ख़ास बात यह है, कि इस पत्र को स्याही से नहीं, बल्कि खून से लिखा गया है।

छत्तीसगढ़ प्रदेश लिपिक वर्गीय शासकीय कर्मचारी संघ के बलरामपुर जिला अध्यक्ष रमेश कुमार तिवारी ने बताया, कि 'वह ज्ञापन मेरे खून से लिखा गया है। हम अपनी 37 साल पुरानी मांग के लिए आज भी आंदोलन करने को विवश हैं। यह विडंबना की स्थिति हैं। यह आंदोलन तब तक जारी रहेगा, जब तक मांगों को सरकार पूरा नहीं करेगी।'

उन्होंने बताया, 'लिपिक 37 वर्षो से लंबित वेतन को विसंगति दूर करने एवं राजस्थान सरकार की तर्ज पर ग्रेड-पे में सुधार की मांग तथा चार स्तरीय पदोन्नत वेतनमान की मांग को लेकर विगत 4 माह से विभिन्न चरणों में आंदोलन करते रहे हैं। इसके बावजूद सरकार के द्वारा किसी भी प्रकार की पहल नहीं होने से लिपिकों में भारी आक्रोश है और प्रदेश स्तर पर अनिश्चितकालीन हड़ताल का शंखनाद कर दिया है।'

इसके पहले क्रमबद्ध तरीके से आंदोलन करते हुए प्रथम चरण में 11 मई को रैली एवं कलेक्टर के माध्यम से ज्ञापन, द्वितीय चरण में 26 मई को रैली एवं कमिश्नर के माध्यम से ज्ञापन, तृतीय चरण में 1 जून से 25 जून तक काली पट्टी लगाकर कार्य संपादन, चतुर्थ चरण में 27 जून को एक दिवसीय अवकाश, पंचम चरण में 26 एवं 27 जुलाई को दो दिवसीय सामूहिक अवकाश लेकर धरना प्रदर्शन, छठे चरण में गांधीवादी तरीके से मुख्यमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र राजनांदगांव में न्याय गुहार रैली निकाली गई। 

WhatsApp Image 2018 09 10 at 5.14.05 PM 1WhatsApp Image 2018 09 10 at 5.14.05 PM 1

इसके बाद बलरामपुर में अभी लगातार 4 दिनों से हड़ताल जारी है। आज उन्होंने कलेक्टर एचएल नायक को मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन सौंपकर अपनी मांगें दोहराई है। बताया जा रहा है, कि वह ज्ञापन जिला अध्यक्ष रमेश कुमार तिवारी के खून से लिखा गया है। ज्ञापन सौंपने के दौरान संघ के संरक्षक त्रिभुवन यादव, इम्तियाज़ अहमद, वरिष्ठ उपाध्यक्ष टी आर शर्मा, सचिव विकास कश्यप, कोषाध्यक्ष आशीष गुप्ता, उपाध्यक्ष भुवन यादव, इक़बाल खान, महिला प्रकोष्ठ अध्यक्ष नयनतारा सिंह, सचिव रीता बिरथरे सहित अन्य मौजूद थे।

कलेक्टर एचएल नायक ने The Voices को बताया, कि कर्मचारियों ने ज्ञापन सौपा है। उस ज्ञापन को शासन को भेजा जायेगा। खून से लिखे होने की बात पर कलेक्टर ने कहा कि इसकी जानकारी उन्हें नहीं है। उन्होंने कहा कि ज्ञापन लाल रंग की स्याही में ज़रूर लिखा गया है, लेकिन वह खून है या नहीं, ये तो जांच के बाद ही पता चलेगा।