ख़ास ख़बर

जुर्म

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By संतोष ठाकुर

जगदलपुर। शहर के शहीद पार्क में बनीं चौपाटी इन दिनों नशेडि़यों का अड्डा होने के साथ ही मारपीट का अखाड़ा भी बन गई है। यहां आए दिन छेड़खानी भी आम बात हो गई है। शुक्रवार की रात दो पक्षों के बीच जमकर मारपीट हुई। जहां एक युवा को दूसरे युवाओं द्वारा लात, घुसों से मारा गया। घटना का वीडियो सोशल मीडिया में भी वायरल किया गया। घटना की सूचना मिलने के बावजूद पुलिस की टीम 1 घंटे बाद मौके पर पहुंची। लेकिन तब तक घटना को अंजाम देने वाले युवा फरार हो गए थे। अन्य लोगों से मामले की पूछताछ की गई।

मामले के बारे में कुछ लोगों ने बताया कि चौपाटी में आए दिन जमकर नशाखोरी करते युवक नजर आते हैं। साथ ही यहां से गुजरने वाली लड़कियां, युवतियां आदि को भी छेड़खानी का शिकार होना पड़ता है। वहीं चौपाटी में मारपीट भी आए दिन होते भी रहती है। कुछ युवा जहां बाइक के स्टंट करते नजर आते हैं तो कुछ नशाखोरी कर गाली गलौज करते नजर आते हैं। पुलिस पार्टी तो आती है लेकिन उसकी सायरन की आवाज सुनते ही युवक भाग जाते हैं। लेकिन कुछ मिनटों बाद दोबारा आकर फिर से वही काम शुरू कर देते हैं, जिसका नतीजा शुक्रवार की रात को देखने को मिला जहां दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई। लेकिन इस मामले को लेकर अब तक कोतवाली थाने में कोई भी मामला दर्ज नहीं किया गया। वहीं नगर पुलिस अधीक्षक हेमसागर सिदार का कहना है कि युवाओं की तलाश की जा रही है। एक पुलिस पार्टी नियमित रूप से वहां तैनात की जा रही है, जो वहां पर होने वाली गतिविधियों पर नजर बनाए रखेगी।

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By पुनेश यादव

कांकेर। केन्द्रीय विद्यालय की बहुचर्चित घटना में चार साल बाद न्यायालय का फैसला आया है। जिसमें न्यायालय ने आरोपी चपरासी को आठ साल के बालक के साथ अप्राकृतिक कृत्य का दोषी पाते हुए आजीवन कारावास और दो हजार रूपये अर्थदण्ड से दण्डित किया है।

अभियोजन पक्ष की ओर से न्यायालय में दर्ज प्रकरण के अनुसार 20 अगस्त 2015 को केन्द्रीय विद्यालय में अध्ययनरत आठ वर्ष के बालक से अप्राकृतिक कृत्य किये जाने की घटना उजागर हुई थी। आरोपी चपरासी ने स्कूल परिसर में ही पीड़ित बालक को डरा धमकाकर उसके साथ अप्राकृतिक कृत्य की घटना को अंजाम दिया था। इस मामले में पुलिस ने चपरासी मोहपुर निवासी इन्द्रजीत ठाकुर पिता बुधारसिंह ठाकुर 35 वर्ष को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ भादवि की धारा 377, 511, 506 बी तथा पाक्सो एक्ट के तहत जुर्म पंजीबद्ध कर आरोपी को दो दिनों बाद गिरफ्तार कर लिया जहां से न्यायालय में पेश किया गया।

न्यायालय में 24 लोगों के कथन लिये गये। गवाहों के कथन एवं परिस्थितिजन्य साक्ष्य के आधार पर विशेष न्यायाधीश एफटीसी प्रशांत शिवहरे ने आरोपी को दोष सिद्ध पाते हुए धारा 506 बी के तहत 7 वर्ष कारावास तथा 1 हजार रूपये अर्थदण्ड वहीं पाक्सो एक्ट की धारा के तहत आजीवन कारावास एवं 1 हजार रूपये अर्थदण्ड से दण्डित किया। दोनों सजाएं साथ साथ चलेंगी। वहीं पीड़ित बालक को क्षतिपूर्ति राशि दिलाये जाने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को सहायता राशि प्रदाय करने आदेशित किया। शासन की ओर से मामले की पैरवी शासकीय अधिवक्ता संदीप श्रीवास्तव ने की।

The Voices FB