By रमेश गुप्ता

भिलाई। समाज की मुख्यधारा से दूर केन्द्रीय जेल दुर्ग में सजा काट रहे बंदियों को जेल प्रबंधन से खेलों के जरिए नया उत्साह देने का प्रयास किया। केन्द्रीय जेल दुर्ग में उमंग 2019 नाम से खेल प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में पुरुष व महिला बंदियों ने विभिन्न खेलों में हिस्सा लिया। प्रतियोगिता के समापन अवसर पर विभिन्न खेलों में विजेताओं को पुरस्कार वितरित कर उनका उत्साह वर्धन किया।



केन्द्रीय जेल दुर्ग में आयोजित खेल प्रतियोगिताओं में पुरुषों के बीच वॉलीबॉल, कुर्सी दौड़, कैरम व शतरंज का आयोजन किया गया। इन खेलों में जेल में बंद 188 बंदियों ने भाग लिया। इन प्रतियोगिताओं में शामिल टीमों को अलग-अलग समूहों में बांटा गया। वॉलीबॉल प्रतियोगिता में टीम बी विजेता व टीम ए उपविजेता रही। इसी प्रकार कुर्सी दौड़ में गेंद सिंह विजेता व शत्रुहन उपविजेता रहा। कैरम में शिवा सोनकर विजेता व चंदन उपविजेता रहा। इसके अलवा शतरंज प्रतियोगिता में ओमप्रकाश विजेता व कल्लू सोनकर उपविजेता रहा। खेल प्रतियोगिता में महिला बंदियों ने भी उत्साह पूर्वक भाग लिया। महिला जेल में महिला बंदियों के लिए कुर्सी दौड़, रंगोली प्रतियोगिता, मेहंदी प्रतियोगिता व कैरम प्रतियोगिता हुई। इन प्रतियोगिताओं में कुल 43 महिला बंदियों ने भाग लिया।

खेल स्पर्धाओं का आयोजन सराहनीय पहल

केन्दीय जेल में उमंग 2019 के समापन के मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में जिला एवं सत्र न्यायाधीश गोविंद मिश्रा उपस्थित हुए। वहीं विशिष्ठ अतिथि के रूप में स्मिता रत्नावत पहुंची। इस मौके पर मुख्य अतिथि मिश्रा ने कहा कि बंदियों के लिए इस प्रकार की खेल स्पर्धाओं का आयोजन सराहनीय पहल है। जेल रहते बंदी समाज की मुख्यधारा से अलग हो जाते हैं ऐसे में इस प्रकार के आयोजन इनमें स्फूर्ती का संचार करते हैं। उन्होंने कहा कि जेल में इस प्रकार की गतिविधियों से बंदियों में मानसिक व शारीरिक विकास होगा।

होगा स्वच्छ वातावरण का निर्माण

विशिष्ठ अतिथि रत्नावत ने कहा कि जेल में खेल प्रतियोगिताओं के आयोजन से यहां स्वच्छ वातावरण का निर्माण होगा। कार्यक्रम के दौरान जेल अधीक्षक योगेश क्षत्री ने कहा कि जेल में बंदियों के मध्य शांतिपूर्ण माहौल निर्मित रहे इसके लिए उक्त प्रतियोगिता का अयोजन किया गया। भविष्य में भी इस प्रकार के आयोजनों को प्रमुखता दी जाएगी। कार्यक्रम के अंत में में उप जेल अधीक्षक आरआर राय ने आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से कल्याण अधिकारी, आरपीएस कंवर, सहा जेल अधीक्षक एनके शर्मा, योगेश बंजारे आदि उपस्थित रहे।