रतन लाल डांगी,आईपीएस, डीआईजी

दुर्ग। बैंक अपने ग्राहकों को चौबीसों घंटे एटीएम से पैसे निकालने की सुविधा देते हैं हालांकि एटीएम का इस्तेमाल जिस तेजी से बढ़ता जा रहा है, वैसे ही एटीएम पर फ्रॉड के केस भी बढ़ते जा रहे हैं लेकिन थोड़ी सी सावधानी बरती जाए तो अपने बैंक अकाउंट को सेफ रखा जा सकता है इसी मामले में पब्लिक पुलिसिंग पर जोर देने वाले एक आइपीएस ने एटीएम फ्रॉड से बचने के कुछ टिप्स दिए हैं। डीआईजी रतन लाल डांगी ने दिए ये टिप्स :-

• ATM के PIN नंबर सदैव गुप्त रखे और किसी को न बताएं तथा समय समय पर PIN नंबर बदलते रहिए ।
• ATM card का नम्बर एवम् पीछे अंकित CVV नम्बर किसी से भी शेयर न करे।
• OTP भी किसी से शेयर न करे।
• कभी भी कार्ड पर PIN नंबर न लिखकर न रखे।
• ध्यान रखे पैसा निकालते समय आसपास कोई बाहरी व्यक्ति आपका PIN नंबर न देख पाए ।
• एटीएम मशीन के आसपास ऐसा कोई कैमरा तो नहीं छिपा हुआ है जो आपके पिन नंबर को मशीन मे फीड करते हुए कैप्चर तो नहीं कर रहा हो,देख लीजिए।
• अपने PIN नंबर कभी भी E- Mail या चैटिंग में ना लिखे।
• एकाउंट सदैव चैक करें तथा रसीद नष्ट कर दें।
• पैसा निकालते समय किसी बाहरी व्यक्ति की सहायता न लें। हो सकता है पैसे निकाल कर आपको दे दे और बातों ही बातों आपको फर्जी ATM कार्ड पकड़ा दें जिसे आप अगली बार पैसे निकालते समय ही देखेंगे तब तक वो आपका सारा पैसा निकाल चुका होगा।
• कहीं पर खरीदारी के बाद आप POS मशीन पर भुगतान करने हेतु कार्ड स्वैप करते समय भी ध्यान रखिए की कही दुकानदार उसकी कापी( स्कैमिंग) तो नहीं कर ले रहे है।
• ATM कार्ड खोने या गिरने से पुलिस में रिपोर्ट तुरंत करें।
• यदि आपसे कोई व्यक्ति बैंक कर्मचारी बनकर फोन करें (कई बार अपना गलत नाम भी बताऐगा, पद भी बताएगा) कि आपका ATM बंद होने वाला है या नवीनीकरण करना है या नया जारी करने वाले है इत्यादि,बंद होने से रोकने हेतु पिन नम्बर बता दीजिए, आप कभी भी किसी को न तो फोन पर और न ही मेसेज से पिन नम्बर बताए,बताएं बैंक मे आकर कर दूंगा।और तुरंत फोन काट दीजिए नहीं तो आपको धीरे धीरे कन्वीन्स कर देगा और आप उसके झांसे मे फंस जाएंगे।
• सदैव PIN नंबर याद ही रखे।