गोंचा मनाते मनचलो ने युवती को प्लास्टिक के माउजर गन से मारा, युवती घायल

बिनाका मॉल के पास बडा हादसा टला

 

संतोष ठाकुर

जगदलपुर। बस्तर के महापर्व गोंचा को मनचलों ने बीते कुछ सालों से क्षेत्र की महिलाओं और युवतियों के लिए जी का जंजाल बना डाला है। हालात यह है कि महाप्रभु जगन्नाथ, बलभद्र और देवी सुभद्रा के रथ को सलामी देने के लिए चलाई जाने वाले बांस के खिलौने 'तुपकी' का इस्तेमाल मनचले महिलाओं और युवतियों को परेशान करने में कर रहे हैं। बस्तर की परंपरा का खिलवाड़ करते इन मनचले युवकों  के हांथों में अब तुपकी की जगह प्लास्टिक के माउज़र बंदूक ने ले ली है वहीं श्रद्धा भाव लिए महाप्रभु जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा के दर्शन और पूजा अर्चना के लिए घर से मंदिर जाने को निकलीं महिलाएं और नवयुवतियां इन मनचलों की हरकतों से खौफ़जदा हैं। 

गुरुवार को इन्हीं मनचलों के द्वारा एक युवती को निशाना बनाकर माउजर गन से चलाई गई गोली के चलते शहर के बिनाका मॉल के पास बडा हादसा होते होते रह गया। घायल युवती ने मामले की शिकायत स्थानीय कोतवाली थाना में दर्ज करा दी है। 

जगदलपुर के बिनाका मॉल की ओर से एक युवती गुरुवार को अपनी वाहन में सवार होकर शहर की ओर आ रही थी। इसी दौरान वहां पहले से मौजूद 2 युवको ने युवती के ऊपर माउजर गन तान कर हमला कर दिया। इस हमले से घबराई युवती ने खुद को बचाने की कोशिश की ओर अपनी दुपहिया समेत सड़क पर गिरकर घायल हो गई। घटना के तुरंत बाद युवक मौके से फरार हो गए वहीं घायल युवती ने मामले की शिकायत कोतवाली थाना में कर दी। इससे पहले कि पुलिस की पैट्रोलिंग टीम मौके पर पहुंचती, युवक वहाँ से फरार हो चुके थे।

पुलिस के द्वारा इन मनचलों पर की गई कार्रवाईयों के दावों के बावजूद महापर्व गोंचा की आड़ में मनचलों का घर से बाहर निकलीं महिलाओं और युवतियों के साथ खुलेआम दुर्व्यवहार का सिलसिला जारी है। 

जगदलपुर कोतवाली प्रभारी धनंजय सिन्हा का कहना है कि मामले की जानकारी लगने के बाद से युवको की तलाश की जा रही है और उनके पकड़े जाने पर मनचलों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाएगी।