तनवीर आलम

जशपुर। कलेक्टर निलेश कुमार महादेव क्षीरसागर ने कलेक्टोरेट में शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक ली। कलेक्टर ने बैठक में स्कूलों में अध्ययन-अध्यापन की स्थिति शिक्षकों द्वारा शासकीय सेवा आचरण नियम के पालन में बरती जा रही लापरवाही को लेकर गहरी नाराजगी जताई। इसके अलावा कलेक्टर ने कांसाबेल के खंड शिक्षा अधिकारी को निलंबित करने के आदेश दिया है।

कलेक्टर ने शासकीय दायित्वों के निर्वहन एवं हमर लईका, हमर स्कूल के क्रियान्वयन में खण्ड शिक्षा अधिकारी कांसाबेल संजीव कुमार सिंह द्वारा बरती गई लापरवाही एवं उदासीनता के कारण उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित किए जाने के निर्देश दिए। जानकारी के अनुसार यूनिसेफ और प्रशासन द्वारा संचालित एप्लीकेशन 'हमर लईका, हमर स्कूल' का उचित रूप से क्रियान्वयन नहीं करने के कारण उन्हें निलंबित कर दिया गया है। दरअसल इस एप के माध्यम से कोई भी स्कूल से संबंधित सभी जानकारियां हासिल कर सकता है। इसके संचालन और इसके प्रति जागरूकता फ़ैलाने कि जिम्मेदारी शिक्षा अधिकारियों को सौंपी गई थी, जिसका निर्वहन नहीं करने के कारण उन्हें निलंबित कर दिया गया है।   

इस दौरान कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी, बीईओ, बीआरसी को बैठक में स्पष्ट रूप से कहा कि भविष्य में किसी भी तरह की लापरवाही का मामला सामने आया तो इसके लिए सीधे विभागीय अधिकारियों को जिम्मेदार मानकर कार्रवाई की जाएगी। जशपुर जिले के कांसाबेल में की तुरंगाखार की प्राथमिक शाला के शिक्षक द्वारा बरती गई अनुशासनहीनता का लेकर भी कलेक्टर ने अधिकारियों को सचेत करते हुए कहा कि कही भी ऐसी घटना नहीं होनी चाहिए। कलेक्टर ने शिक्षा अधिकारी, सहायक आयुक्त सहित सभी अधिकारियों को नियमित रूप से स्कूलों एवं छात्रावासों का मुआयना करने तथा काम-काज में लापरवाही एवं अनुशासनहीनता बरतने वालों पर कड़ी कार्रवाई के भी निर्देश दिए।

सभी खण्ड शिक्षा अधिकारियों को स्कूल परिसर में स्थित जर्जर एवं अनुपयोगी भवनों को तत्काल डिस्मेंटल करने के भी निर्देश दिए गए। बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी बीआर धु्रव, डीएमसी पैंकरा, प्राचार्य विनोद गुप्ता, सहायक परियोजना समन्वयक जाटवर, संजीव शर्मा सहित सभी बीईओ, बीआरसी एवं मण्डल संयोजक मौजूद थे।