रायपुर।  यह कोई नई बात नहीं है कि राजनीति में दो चिर प्रतिद्वंदी आमने-सामने हो जाएं। लेकिन छत्‍तीसगढ़ की राजनीति के लिए आज का दिन इसी मायने में खास रहा। बिलासपुर में देखने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और जोगी कांग्रेस प्रमुख अजीत जोगी की मुलाकात हुई। इस मुलाकात में अजीत जोगी ने जहां मुख्‍यमंत्री बघेल को गुलदस्‍ता भेंट किया, तो उनके बेटे अमित जोगी ने भूपेश बघेल के पांव छूकर आशिर्वाद लिया। रेणु जोगी और धर्मजीत सिंह ने भी गुलदस्‍ता भेंटकर मुख्‍यमंत्री का अभिवादन किया। इस मुलाकात के दौरान जोगी ने बघेल के समक्ष दो मांगें रखी।



 

मुख्यमंत्री के आज बिलासपुर प्रवास के दौरान उनसे पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, विधायक धर्मजीत सिंह और रेणु जोगी ने मुलाकात की। इस दौरान जोगी ने मुख्यमंत्री के सामने पेंड्रा को जिले का दर्जा देने की मांग रखी। इस पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि किसी क्षेत्र की कोई उपेक्षा नहीं होगी। जोगी ने उन्हें 2 मांग पत्र भी सौंपें।

इन मांग पत्र में कहा गया है कि मनेंद्रगढ़ और चिरमिरी को मिलाकर एक नया संयुक्त जिला बनाया जाए। इसकी मांग पिछले 15 वर्षों से की जा रही है। वहीं दूसरे मांग पत्र में कहा गया है कि मरवाही, पेंड्रा और गौरेला को जिला बनाया जाना चाहिए। क्योंकि ये तीनों ब्लॉक जिला मुख्यालय बिलासपुर से करीब 150 किलोमीटर दूर हैं और 80 फीसदी आबादी आदिवासी समाज और विशेष पिछड़ी जनजाति की है।