नई दिल्ली। डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती के मौके पर आज पूरा देश उन्हें याद कर रहा है। बहुत कम लोग जानते होंगे कि भारतीय संविधान के रचयिता, समाज सुधारक और महान नेता डॉक्‍टर भीमराव अंबेडकर की जयंती भारत ही नहीं बल्‍कि दुनिया भर में धूमधाम से मनाई जाती है। बाबा साहेब के नाम से मशहूर भारत रत्‍न अंबेडकर जीवन भर समानता के लिए संघर्ष करते रहे। यही वजह है कि अंबेडकर जयंती को भारत में समानता दिवस और ज्ञान दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। अंबेडकर जयंती के मौके पर हम आपको उनकी जिंदगी से जुड़ी 10 बातों के बारे में बता रहे हैं।

डॉ. भीमराव अंबेडकर से जुड़ी 10 बातें :-

  1. अंबेडकर 64 विषयों में मास्टर थे। उन्हें 9 भाषाओं का ज्ञान था। उन्होंने लगभग 21 वर्षों तक दुनिया के सभी धर्मों का तुलनात्मक तरीके से अध्ययन किया।
  2. उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में सिर्फ 2 साल 3 महीने में 8 साल की पढ़ाई पूरी की।
  3. वह लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से "डॉक्टर ऑल साइंस" नामक एक मूल्यवान डॉक्टरेट की डिग्री प्राप्त करने वाले दुनिया के पहले और एकमात्र व्यक्ति हैं।
  4. डॉ. बी. आर. आंबेडकर की दुनिया में सबसे ज्यादा प्रतिमाएं हैं। 1950 में, उनकी पहली प्रतिमा कोल्हापुर शहर में बनाई गई थी।
  5. डॉ. बी. आर. अम्बेडकर एकमात्र भारतीय हैं जिनकी प्रतिमा लंदन संग्रहालय में कार्ल मार्क्स के साथ लगी हुई है। उनकी जयंती भी पूरे विश्व में मनाई जाती है।
  6. भारतीय तिरंगे पर "अशोक चक्र" को जगह देने का श्रेय डॉ. बी. आर. अम्बेडकर को जाता है।
  7. उनकी पुस्तक "वेटिंग फॉर ए वीजा" कोलंबिया विश्वविद्यालय में एक पाठ्यपुस्तक है।
  8. दुनिया भर में, किसी भी नेता के नाम पर सबसे अधिक गाने और किताबें डॉ. बी. आर. अंबेडकर के नाम पर लिखी गई हैं।
  9. दुनिया भर में बुद्ध की सभी प्रतिमाओं और चित्रों में बुद्ध की आंखें बंद हैं, लेकिन डॉ. बी. आर. अंबेडकर ने बुद्ध की पहली पेंटिंग बनाई, जिसमें बुद्ध की आंखें खुली थीं।
  10. आंबेडकर ने 6 दिसंबर, 1956 को नई दिल्ली में अपनी अंतिम सांस ली, जहां उन्हें बौद्ध अंतिम संस्कार दिया गया था। 1990 में, अंबेडकर को मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।