रायपुर। रायपुर का कुकरी पारा इलाका बीते कुछ दिनों से कथित साम्प्रदायिक तनाव को लेकर चर्चा में है। मामला सुर्खियों में तब आया जब कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यहां निवास कर रहे गुप्ता परिवार के CCTV से लैस घर की तस्वीरें प्रसारित की गईं। परिवार के महिलाओं के द्वारा दूसरे सम्प्रदाय के लोगों पर धमकी दिए जाने का आरोप लगाए जाने के बाद यह मामला और भी संवेदनशील दिखाई पड़ने लगा। 

मामले की तहकीकात करने जब The Voices की टीम इलाके में पहुंची और दोनों पक्षों से मामले को समझने की कोशिश की तो कुछ दूसरी जानकारियां भी सामने आयीं। यहां निवास कर रहे गुप्ता परिवार का आरोप है कि दूसरे के पक्ष लोग और उनके साथियों ने उन्हें घर खाली करने की धमकी दी है और ऐसा नहीं करने पर उनकी बेटी से दुष्कर्म करने की धमकी भी दी है तो वहीं इलाके में रहने वाले दूसरे लोग इसे जमीन के विवाद को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश भी बता रहे हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार रायपुर में पुरानी बस्ती थाना के कुकरीपारा में विजया गुप्ता और मो. रफीक के बीच जमीन को लेकर विवाद हो गया था। विजया गुप्ता का आरोप था कि मो. रफीक, अब्दुल नदीम, ताहिर उर्फ पप्पू और सैय्यद रिजवान ने उन्हें जान से मारने और उनकी बेटी से दुष्कर्म करने की धमकी दी है और उन्हें घर खाली करने के लिए दबाव डाला जा रहा है।

क्या कहते हैं मुहल्ले वाले

इस मामले में पार्षद सालिक सिंह ने बताया कि- ‘जमीन विवाद को साम्प्रदायिक मुद्दा बनाकर सामाजिक सौहार्द्र बिगड़ने की कोशिश की जा रही है।’ वहीं यहाँ निवास करने वाले मुस्लिम परिवार का कहना है कि यह 3 महीने पहले की बात है, जब गली की जमीन को लेकर विवाद शुरू हुआ था। 

विजया गुप्ता ने कहा कि मुझे घर खाली करने की धमकी दी जा रही है मो. रफ़ीक हमें 5-6 सालों से हमें परेशान कर रहा है। उन्होंने स्थानीय पार्षद सालिक सिंह पर भी मो. रफीक का साथ देने का आरोप लगाया है कि ये भी मो. रफीक के साथ मिले हुए हैं। 

पुरानी बस्ती थाना में विगत 02 वर्षों से इस जमीन/गली को लेकर विवाद चला आ रहा है, जिस संबंध में थाना पुरानी बस्ती में प्रार्थिया की शिकायत पर फरवरी माह में अपराध क्रमांक 106/19 धारा 294, 506, 34 भादवि. दर्ज कर मो. रफीक की गिरफ्तारी की गई थी, जिन्हें मुचलके पर छोड़ दिया गया है। हाँलाकि तब तक इस मामले में कोई भी साम्प्रदायिक एंगल नही जुड़ा था। 

;