रायपुर  आज रविवार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशवासियों से मन की बात की। यह पीएम मोदी का 53वां एपिसोड है। जो आकाशवाणी रेडियो, डीडी नेशनल, डीडी न्यूज पर सुबह 11 बजे से शुरू हुआ।  ‘मन की बात’ कार्यक्रम की शुरुआत अक्टूबर 2014 में हुई थी। उसके बाद से पीएम नियमित तौर पर इस रेडियो कार्यक्रम के जरिये लोगों से बात करते रहे हैं। पीएम मोदी ने मन की बात कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी।

पीएम मोदी बोले- ‘चुनाव लोकतंत्र का सबसे बड़ा उत्सव होता है। अगले दो महीने, हम सभी चुनाव की गहमा-गहमी में व्यस्त होगें। मैं स्वयं भी इस चुनाव में एक प्रत्याशी रहूंगा। स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपरा का सम्मान करते हुए अगली मन की बात मई महीने के आखरी रविवार को होगी।’

इसके अलावा पीएम मोदी बोले मोरारजी भाई देसाई के कार्यकाल के दौरान ही 44वां संविधान संशोधन लाया गया। यह महत्वपूर्ण इसलिए है क्योंकि आपातकाल के दौरान जो 42वां संशोधन लाया गया था, जिसमें सुप्रीमकोर्ट की शक्तियों को कम करने और दूसरे ऐसे प्रावधान थे, उनको वापिस किया गया।

उन्होंने कहा कि जमशेद जी टाटा ने देश को बड़े-बड़े संस्थान दिए हैं। वे जानते थे कि भारत को sci, tech, industry का हब बनाना भविष्य के लिए आवश्यक है। ये उनका ही विजन था जिससे टीआईएस की स्थापना हुई,  टाटा स्टील जैसे कई विश्वस्तरीय संस्थान, उद्योगों की स्थापना हुआ।

पीएम ने कहा कि मुझे आश्चर्य भी होता था और पीड़ा भी कि भारत में कोई नेशनल वॉर मेमोरियल नहीं था। एक ऐसा मेमोरियल, जहां राष्ट्र की रक्षा के लिए अपने प्राण न्योछावर करने वाले वीर जवानों की शौर्य-गाथाओं को संजो कर रखा जा सके। मैंने निश्चय किया कि देश में, एक ऐसा स्मारक अवश्य होना चाहिए। 25 फरवरी के जवानों को समर्पित करेंगे वॉर मेमोरियल।