नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत सभी विधायक मंत्री दिल्ली में हैं। राहुल गांधी से ED की पूछताछ कार्रवाई का विरोध कर रहे हैं। मंगलवार को ED दफ्तर के बाहर विरोध करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को दिल्ली की पुलिस ने रोक लिया। मुख्यमंत्री सड़क पर बैठकर धरना देने लगे तो उन्हें वहां से उठाकर वापस भेज दिया गया।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम, मंत्री अमरजीत भगत, विधायक शैलेश पाण्डेय, युवा कांग्रेस के सुबोध हरितवाल, पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के चौलेश्वर चंद्राकर को गिरफ्तार कर बसंत कुंज थाने में बिठा दिया गया है। 

कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे शिक्षा मंत्री प्रेम साय सिंह टेकाम सहित दर्जन से ज्यादा विधायक दिल्ली में ही हैं। विधायकों का कहना केंद्र में जिस तरह ईडी काम कर रहा है यह गलत. यह कांग्रेस के सत्याग्रह की लड़ाई है इस लड़ाई में सत्य परेशान हो सकता है पर पराजित नहीं। 

विधायक चन्द्रदेव राय, यशोदा वर्मा, छन्नी साहू, विनय जायसवाल, केके ध्रुव, विक्रम मंडावी, उत्तरी जांगड़े, गुरुदयाल बंजारे, रेखचन्द जैन, राजमन बेंजाम, मोहित केरकेट्टा, संगीता सिन्हा, धनेंद्र साहू, आशीष छाबड़ा, अरुण वोरा, चंदन कश्यप भी दिल्ली में हैं। 

मंत्री जयसिंह अग्रवाल सहित उत्तर के विधायक कुलदीप जुनेजा धरसीवा विधायक अनीता योगेंद्र शर्मा विधायक ममता चंद्राकर गुलाब कमरों यूडी मिंज, लक्ष्मी वर्मा पार्षद एमआईसी सदस्य आकाश तिवारी भी दिल्ली गए हैं। नेशनल हैराल्ड कंपनी मंे करोड़ों की लेन-देन के मामले में राहुल गांधी से ED पूछताछ कर रही है। इस पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मांग रखी है कि ED के पूछताछ कक्ष में कैमरा लगा दें और पूरे देश को दिखाएं कि ED क्या पूछ रही है।