नई दिल्लीे। हिंदुओं के खिलाफ बयान देने पर मंत्री पर कार्रवाई हुई। इतनी सख्त हुई कि उन्हें पद से ही हटा दिया गया। इससे भी ज्यादा हैरानी की बात ये कि खबर पाकिस्तान से आई हैं, जो कि एक मुस्लिम बहुल राष्ट्र है। यहां पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के सूचना और संस्कृति मंत्री फ़ैयाज़ अल हसन चौहान को हिंदुओं पर दिए गए आपत्तिजनक बयान के चलते पद से ही हाथ धोना पड़ा । 

वहां के पंजाब के सीएम सरदार उस्मान बुज़दार हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि इमरान ख़ान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ पार्टी में किसी भी तरह के भेदभाव को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। चौहान ने हिंदुओं को गाय का मूत्र पीने वाला बताते हुए कहा था कि भारत पाकिस्तान का मुक़ाबला नहीं कर सकता है ।

इस बयान का वीडियो भी वायरल हुआ। सोशल मीडिया में लोगों ने #SackFayazChohan और #Hindus लिखकर आंदोलन सा माहौल बना दिया। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ पार्टी के नेताओं ने भी उनकी जमकर आलोचना की थी। चौहान ने 24 फ़रवरी को लाहौर में एक कार्यक्रम के दौरान ये विवादित बयान दिया था।
प्रधानमंत्री इमरान ख़ान के राजनीतिक मामलों के सलाहकार नईमुल हक़ ने एक ट्वीट में कहा था कि पीटीआई इस तरह की बकवास को बर्दाश्त नहीं करेगी भले ही सरकार का कोई वरिष्ठ सदस्य या कोई अन्य ऐसी बात कहे।
क्यों है पाकिस्तानी झंडे में सफेद रंग
पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फ़ैसल ने ट्विटर पर लिखा, "पाकिस्तानी झंडे में जिस गर्व से हरा रंग शामिल है, उसी गर्व से सफ़ेद रंग भी है जो हिंदू समुदाय के योगदान का सम्मान करता है। मानवाधिकार मामलों की मंत्री शिरीन मज़ारी ने भी चौहान की आलोचना करते हुए ट्वीट किया, "मैं इसकी घोर निंदा करती हूं किसी के धर्म पर हमला करने का अधिकार किसी के पास नहीं है हमारे हिंदू नागरिकों ने अपने देश के लिए बलिदान दिया है।