नई दिल्ली। मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) अपनी ईस्ट-वेस्ट पाइपलाइन लिमिटेड कनाडा की इन्वेस्टमेंट कंपनी ब्रुकफील्ड को बेचेगी। ब्रुकफील्ड स्पॉन्सर्ड पाइपलाइन इन्फ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड (PIPL) में 100 फीसदी इक्विटी का अधिग्रहण करेगी। पीआईपीएल पाइपलाइन बिजनेस ऑपरेट करती है।

कनाडा की इन्वेस्टमेंट कंपनी ब्रुकफील्ड रिलायंस इंडस्ट्रीज की ईस्ट-वेस्ट पाइपलाइन लिमिटेड को 13,000 करोड़ रुपए में खरीदेगी। एग्रीमेंट के मुताबिक पाइपलाइन की रिजर्व कैपेसिटी प्रति दिन 56 मिलियन मीट्रिक स्टैंडर्ड क्यूबिक मीटर से घटाकर 33 मिलियन मीट्रिक स्टैंडर्ड क्यूबिक मीटर की जाएगी। बता दें कि ईस्ट-वेस्ट पाइपलाइन लिमिटेड का नाम पहले रिलायंस गैस ट्रांसपोर्टेशन इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड था। यह 1400 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन का संचालन करती है। इसके जरिए रिलायंस इंडस्ट्रीज के केजी बेसिन ब्लॉक की नेचुरल गैस का ट्रांसपोर्ट किया जाता है।

आंध्रप्रदेश के काकीनाडा से शुरू होकर गुजरात के भरूच तक जाने वाला ईस्ट-वेस्ट पाइपलाइन इन्फ्रास्ट्रक्चर घाटे में है। इसकी क्षमता का सिर्फ 5% संचालन हो रहा है। रिलायंस के केजी डी 6 ब्लॉक से पिछले कई सालों से उत्पादन में कमी दर्ज की जा रही है।