भुवनेश्वर। रविवार को नवीन पटनायक  दिल्ली पहुचे है। मुख्यमंत्री पटनायक दिल्ली में प्रधानमंत्री से मुलाकात कर फणि तूफान से हुए। भारीनुकसान के लिए केंद्र सरकार से मदद की मांग करंगे। तूफ़ान से हुए नुक्सान के लिए ओडिसा को  5,227.68 करोड़ रुपये की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री प्रधानमंत्री को राज्य सरकार द्वारा तैयार एक रिपोर्ट भी सौंपेंगे। जिसमें फणि से हुई तबाही का आंकलन किया गया है। इसी आधार पर वह विभिन्न जिलों में राहत एवं पुनर्वास के लिए अनुदान की मांग करेंगे। उनके साथ बीजू जनता दल के नवनिर्वाचित सांसदों का एक प्रतिनिधि मंडल भी रहेगा।

 रिपोर्ट में कुल नुकसान 9,336 करोड़ रुपये का आंकलन किया गया

विशेष राहत आयुक्त विष्णुपद सेठी की रिपोर्ट में कुल नुकसान 9,336 करोड़ रुपये का आंकलन किया गया है। फणि तूफान ने तीन मई को जगन्नाथ धाम पुरी जिले में समुद्र तट से टकराया था। तूफानी हवाओं और बारिश ने कहर बरपा दिया था। इससे राज्य में में जन धन की काफी क्षति हुई है। राज्य के विशेष राहत आयुक्त ने 6,643.63 करोड़ की सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान संबंधी अंतिम रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंपी है। जिसमें कहा गया है कि अब तक उपलब्ध कराई गई मदद के बावजूद राहत एवं पुनर्वास के लिए राज्य को अब भी 2,693.63 करोड़ रुपये की आवश्यकता है। रिपोर्ट के अनुसार ओडिशा के 14 जिलों के 20,367 गांव प्रभावित हुए हैं। कुल 1.6 करोड़ लोगों पर फणि का असर पड़ा है।

5,227.68 करोड़ रुपये की है आवश्यकता

नेशनल व स्टेट डिजास्टर रिलीफ फंड के मानक के अनुसार 5,227.68 करोड़ रुपये की आवश्यकता है। यही रकम राज्य सरकार केंद्र सरकार से चाहती है। फिलहाल 1,357.14 करोड़ रुपया राज्य सरकार ने राहत कार्यों के लिए रिलीज किया है।

आयुष्मान भारत योजना पर हो सकती चर्चा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की आयुष्मान भारत योजना पर भी चर्चा हो सकती है। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने गत दिनों एक बैठक में आयुष्मान भारत योजना राज्य में लागू करने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री अपने दिल्ली प्रवास के दौरान नीति आयोग की बैठक में भाग लेंगे। वह 11 जून को राष्ट्रपति रामनाथ को¨वद से मुलाकात करेंगे। इसके बाद 14 जून को ओडिशा लौट आएंगे।