पठानकोट बहुचर्चित कठुआ गैंगरेप व हत्या मामले में एक नया मोड़ आया है। दरअसल जम्मू कोर्ट ने विशाल के खिलाफ उसके 3 दोस्तों पर झूठी गवाही का दबाव बनाने और प्रताड़ित करने पर जेएंडके पुलिस की एसआईटी चीफ व क्राइम ब्रांच के एसएसपी, एएसपी, डीएसपी और सब इंस्पेक्टर के खिलाफ केस दर्ज करने का आदेश दिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पठानकोट की स्पेशल कोर्ट द्वारा मुख्य साजिशकर्ता सांझी राम के बेटे विशाल जगोत्रा को बरी किए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस की दिक्कतें बढ़ गई हैं। जम्मू कोर्ट ने विशाल के खिलाफ उसके 3 दोस्तों पर झूठी गवाही का दबाव बनाने और प्रताड़ित करने के आरोप में जे एंड के पुलिस की एसआईटी चीफ व क्राइम ब्रांच के एसएसपी आरके जाला (रिटायर्ड), एएसपी जम्मू पीरजादा नावेद, डीएसपी क्राइम ब्रांच शतम्बरी शर्मा व नसीर हुसैन, सब इंस्पेक्टर उरफान वानी और केवल किशोर (क्राईम ब्रांच) के खिलाफ केस दर्ज करने का आदेश दिया।

कोर्ट ने 7 नवंबर को सुनवाई की अगली तारीख तक एसएसपी जम्मू से रिपोर्ट भी तलब की है। आरोप है कि एसआईटी सदस्यों ने सचिन, नीरज और साहिल को गवाह बनाकर विशाल के खिलाफ झूठे बयान देने के लिए कथित तौर पर प्रताड़ित किया। जबकि पठानकोट की विशेष कोर्ट ने विशाल को सभी आरोपों से बरी कर दिया था। इसकी शिकायत विशाल के तीनों साथियों ने 5 अक्टूबर को पुलिस थाना पक्का दांगा (जम्मू) में भी की, लेकिन कोई केस दर्ज नहीं हुआ।