एजुकेशन / जॉब्स

राजनीति

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By संतोष ठाकुर

जगदलपुर। एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि एनएसयूआई के राष्ट्रीय महासचिव राजीव पटनायक की अनुशंसा पर प्रदेश कार्यकारिणी का विस्तार किया गया है, जिसमें आसिफ़ अली को प्रदेश सचिव के पद पर नियुक्त किया गया है। आसिफ़ को दंतेवाड़ा जिले का प्रभार सौंपा गया है। आकाश शर्मा ने नए पदाधिकारियों से अपेक्षा की है कि वे संगठन की रीति-नीति पर खरे उतरते हुए संगठन को मज़बूत करने की दिशा में कार्य करेंगे। आसिफ़ अली छात्र राजनीति में लगातार सक्रिय रहते हुए छात्रहित में आवाज़ उठाते रहें हैं एवं कांग्रेस पार्टी के हर कार्यक्रम में सक्रिय भूमिका निभाते हुए विभिन्न मुद्दे पर लगातार सक्रिय रहे हैं। आसिफ़ अली की नियुक्ति पर बस्तर जिले के छात्रों ने हर्ष प्रकट किया है।

जुर्म

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By पवन तिवारी

कोरबा। जिले के झगरहा गांव में स्थित मीडिल स्‍कूल के टीचर बीआर सोनवाने द्वारा बच्‍चों के साथ की गई मारपीट के मामले में अब शिक्षा विभाग गंभीर हुआ है। जिला शिक्षा अधिकारी ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए आरोपी टीचर को कारण बताओ नोटिा जारी किया है।

इस आशय की खबर प्रकाशित होने के बाद प्रशासन हरकत में आया है। मीडिल स्कूल झगरहा में शिक्षक की हैवानियत सामने आई थी, यहां पदस्थ शिक्षक बीआर सोनवाने ने 5 छात्रों की सिर्फ इसलिए पिटाई कर दी थी। इस ख़बर को दिखाए जाने के बाद शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा और जिला शिक्षा अधिकारी ने जांच जांच करवाया।

जिला शिक्षा अधिकारी संदीप पांडे ने बताया कि हेडमास्टर बीआर सोनवाने ने छात्रों के साथ मारपीट की थी, जिसे शोकाज नोटिस जारी किया गया है। विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी को जांच के लिए भेजा गया था, जांच प्रतिवेदन मिलने के बाद कार्यवाही की जाएगी।

जिला शिक्षा अधिकारी संदीप पांडे ने भी माना है कि बाल संरक्षण अधिनियम 28 के तहत बच्चों के साथ मारपीट करना ठीक नहीं है। किसी भी बच्चे को शारीरिक रूप से दंड नहीं दिया जा सकता।

शिक्षक ने छात्रों की पिटाई इसलिए की थी, कि वे बिना बताए लघुशंका के लिए टॉयलेट चले गए थे छात्रों के अनुसार उन्हें जानवरों की तरह पीटा गया था।  

इसे भी पढ़ें - कोरबा : सरकारी स्‍कूल में बच्‍चों के साथ टीचर ने की बेहरमी से मारपीट, इलाके में तनाव के हालात

एजुकेशन / जॉब्स

User Rating: 3 / 5

Star ActiveStar ActiveStar ActiveStar InactiveStar Inactive

रायपुर। देश भर में लोकसभा चुनाव की तैयारियां चरम पर हैं। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर छत्तीसगढ़ में भी कई राजनीतिक समीकरण बनते दिख रहे हैं। प्रदेश में लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस सरकार को कर्मचारियों ने मुश्किल में डाल दिया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आश्वासन के बाद अगले वर्ष तक इंतजार करने की बात कहने वाला अनियमित कर्मचारियों का एक धड़ा भी अब आंदोलन की राह पर वापस लौट रहा है। जो सरकार के लिए मुश्किल का सबब बन सकता है।

इस धड़े ने 10 मार्च को राजधानी रायपुर में सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने का ऐलान कर दिया है। अनियमित कर्मचारियों का वह धड़ा भी प्रदेशव्यापी धरने पर बैठेगा। मतलब, एक बार फिर प्रदेश के सभी एक लाख 80 हजार अनियमित कर्मचारी लोकसभा चुनाव के पहले कांग्रेस सरकार पर दबाव बनाने में जुट गए हैं।

बता दें कि पिछले साल विधानसभा चुनाव के पहले अनियमित कर्मचारियों ने एक बैनर तले आंदोलन की शुरुआत की थी। छत्तीसगढ़ संयुक्त प्रगतिशील कर्मचारी महासंघ से 52 सरकारी विभागों के 72 कर्मचारी संघ जुड़े थे। चुनाव के पहले लगातार 23 दिन आंदोलन किया गया था, तब तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने धरनास्थल पहुंचकर वादा किया था कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद अनियमित कर्मचारियों की मांगों को पूरा किया जाएगा। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद अनियमित कर्मचारियों का प्रतिनिधिमंडल दो बार मुख्यमंत्री और एक बार मंत्री सिंहदेव से मिलकर उन्हें वादा याद दिलाया। लेकिन मुख्यमंत्री ने उन्हें अगले साल का आश्वासन दे दिया। जिसके बाद छत्तीसगढ़ संयुक्त प्रगतिशील कर्मचारी महासंघ और छत्तीसगढ़ संयुक्त अनियमित कर्मचारी महासंघ में अनियमित कर्मचारी बंट गए हैं। 24 फरवरी को संयुक्त प्रगतिशील कर्मचारी महासंघ ने सीएम हाउस को घेरने की कोशिश करके आंदोलन जारी रखने का संकेत दे दिया था, जबकि संयुक्त अनियमित कर्मचारी महासंघ ने सीएम के आश्वासन पर इंतजार करने की बात कही थी।

अब संयुक्त अनियमित कर्मचारी महासंघ के पदाधिकारियों पर अपने लोगों का दबाव है। इस कारण वे भी लोकसभा चुनाव के पहले सरकार पर दबाव बनाने में जुट गए हैं। अभी सेवा से अलग किए गए अनियमित कर्मचारियों को वापस काम देने की मांग भी होगी। अनियमित कर्मचारियों का एक धड़ा छत्तीसगढ़ संयुक्त प्रगतिशील कर्मचारी महासंघ को प्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ का समर्थन मिला हुआ है। तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के महामत्री विजय झा का कहना है कि अनियमित कर्मचारी एक साल से आंदोलन कर रहे हैं। जब विपक्ष में रहकर कांग्रेस ने उन्हें आश्वासन दिया था, तो अब सरकार बनने के बाद आश्वासन को पूरा किया जाना चाहिए। 

The Voices FB