एजुकेशन / जॉब्स

एजुकेशन / जॉब्स

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन ने 36 डिप्टी कलेक्टरों की पदस्थापना की है राज्य प्रशासनिक सेवा 2017 में चयनित डिप्टी कलेक्टरों को सरकार ने दो साल की परिवीक्षा अवधि में पदस्थ किया है इन्हें परिवीक्षा अवधि में जूनियर केटेगरी वेतनमान दिया जाएगा

ListList

 ListList

ListList

ListList

ListList

रायगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रायगढ़। छत्तीसगढ़ पुलिस के सब इंस्पेक्टर धनीराम राठौर ने इस्तीफा दे दिया है। घरघोड़ा थाना प्रभारी धनीराम राठौर ने एसपी को पत्र के लिखकर इस्तीफा दे दिया। राठौर ने पत्र में लिखा है कि उनके आत्मसम्मान को ठेस पहुंची है, वे नौकरी नहीं कर सकते।

दरअसल 27 फरवरी को सुबह एसआई राठौर ने कोयला माफिया उत्खनन करते हुए गाड़ियां पकड़ी थीं। इसी दिन शाम को 10 इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर का तबादले कर दिए गए। इसमें धनीराम राठौर का भी नाम था, उनका ट्रांसफर घरघोड़ा से धरमजयगढ़ थाना प्रभारी के रूप में हुआ। जबकि, दो माह पहले यानी 27 दिसंबर को ही राठौर घरघोड़ा थाना प्रभारी बने थे।शनिवार को दिए इस्तीफे में एसआई राठौर ने इस्तीफे में ये भी लिखा है कि धरमजयगढ़ में पदस्थ करने के बजाय लाइन अटैच कर दें।

इस मामले में एसपी राजेश अग्रवाल ने बताया कि सोशल मीडिया पर किसी ने इस्तीफा डाला जरूर था। पर अभी तक मुझे नहीं मिला है। राठौर के ट्रांसफर को कोल माफिया के रसूख से जोड़कर देखा जा रहा है। लेकिन पुलिस विभाग ट्रांसफर को सामान्य प्रक्रिया बता रहा है।

घरघोड़ा थाना प्रभारी धनीराम राठौर ने कहा है कि- ‘सुबह कोल माफिया पर कार्रवाई की और शाम को मेरा ट्रांसफर हो गया। इस तरह हटाए जाने से मेरे आत्मसम्मान को ठेस पहुंची, अब मैं काम नहीं कर सकता। मैंने क्या गलत किया है? दो माह में ही मुझे धरमजयगढ़ भेज दिया। मैंने एसपी साहब को इस्तीफा पोस्ट कर दिया है।’ 

एजुकेशन / जॉब्स

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन ने विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों के प्राचार्य, प्राध्यापक और कुलपतियों के पदभार में बदलाव किया है। इस सूची में उच्च शिक्षा विभाग ने 5 पदाधिकारियों का तबादला किया है।

इस लिस्ट में जे योगानंदम छत्तीसगढ़ स्नातकोत्तर महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. सी एल देवांगन को हेमचंद विश्वविद्यालय का कुलसचिव का पदभार सौंपा गया है। हेमचंद विश्वविद्यालय दुर्ग के कुलसचिव डॉ. राजेश पाण्डेय को शासकीय नवीन महाविद्यालय दुर्ग के प्राचार्य का प्रभार दिया गया है। शासकीय जमुना प्रसाद वर्मा स्नातकोत्तर कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय के प्राध्यापक सुधीर वर्मा को अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय बिलासपुर के कुलसचिव का पदभार दिया गया है। अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय के कुलसचिव इंदु आनंद को पंडित सुंदरलाल शर्मा विश्वविद्यालय के कुलसचिव का पदभार दिया गया है। पं. सुंदरलाल शर्मा विश्वविद्यालय बिलासपुर के कुलसचिव डॉ. राजकुमार सचदेव को उच्च शिक्षा विभाग में वापसी फ़िलहाल इन्हें किसी भी संस्थान के पदाधिकारी की जिम्मेदारी नहीं दी गयी है।  

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रायपुर। प्रदेश की राज्यपाल एवं डॉ. सीवी रमन यूनिवर्सिटी बिलासपुर की कुलाधिपति आनंदी बेन पटेल ने कहा है कि विश्वविद्यालयों को शासकीय योजनाओं का लोगों के जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव पर शोध करना चाहिए। उन्होंने टीबी से पीड़ित बच्चों की खोजकर और उनकी देखभाल करने की अपील भी की। राज्यपाल पटेल बिलासपुर जिले के कोटा स्थित डॉ. सीवी रमन विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह को सम्बोधित कर रही थी।

डॉ. सीवी रमन विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह में राज्यपाल पटेल ने 202 छात्र-छात्राओं को उपाधि पत्र एवं 99 छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदक प्रदान किया। इस अवसर पर अपने उद्बोधन में उन्होंने विश्वविद्यालय के प्रबंधन को इस बात के लिए बधाई दी, कि उन्होंने 5 गांवों को गोद लिया है। उन्होंने अपेक्षा की कि इन गांवों में केन्द्र व राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ ग्रामीणों को मिले, इसका प्रयास होना चाहिए। इस पर अध्ययन भी होना चाहिये कि योजनाओं से उनके जीवन स्तर में किस तरह बदलाव आया है। गांवों के सभी बच्चे प्रायमरी स्कूल में दाखिल हों और जो बच्चे 8वीं उत्तीर्ण हो जायें उन्हें 9वीं कक्षा में प्रवेश करायें।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में टीबी रोग एक बड़ी समस्या है। उन्होंने कहा कि टीबी से बच्चों को मुक्त कराने के लिए विश्वविद्यालय, सामाजिक संस्थाएं और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मिलकर काम करें। लायंस क्लबों, कॉलेजों विश्वविद्यालयों को टीबी पीड़ित बच्चों के देखभाल की जिम्मेदारी दें। वे इनको पौष्टिक आहार एवं फल आदि उपलब्ध कराने के लिए काम करें। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में इस तरह का अभियान चलाया जा रहा है।

राज्यपाल पटेल ने इस बात के लिए डॉ. सीवी रमन विश्ववि़द्यालय को बधाई दी कि पूरे देश के विश्वविद्यालयों की स्वच्छता रैंकिंग में उनको तीसरा स्थान मिला हुआ है। दूसरे शैक्षणिक संस्थान भी इससे प्रेरणा लेंगे। उन्होंने कहा कि देश में सबने मन बना लिया है कि देश को, नदी के पानी को, स्कूल को और गांव को स्वच्छ रखना है।

राज्यपाल ने कहा कि प्रयागराज में कुंभ मेले के दौरान 22 करोड़ से अधिक लोगों ने गंगा में डुबकी लगाई। इतनी बड़ी संख्या में पहुंचे लोगों को किस प्रकार प्रबंधन किया गया इस विषय पर मैनेजमेंट और सोशल वर्क में अध्ययन किया जाना चाहिए। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे जोन के महाप्रबंधक सुनील कुमार सोइन, कुलपति आरपी दुबे ने सम्बोधित किया। कुलाधिपति संतोष चौबे ने विश्वविद्यालय का वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि यह प्रदेश का पहला निजी विश्वविद्यालय है और सबसे अधिक छात्र संख्या है। यह अकेला निजी विश्वविद्यालय है, जहां दीनदयाल कौशल विकास योजना संचालित है। उन्होंने सीवी रमन विश्वविद्यालय के सामुदायिक रेडियो केन्द्र और दूरस्थ शिक्षा के बारे में भी बताया।

राज्यपाल ने सीवी रमन विश्वविद्यालय के प्रथम कुलपति रहे एएस झड़गांवकर को शॉल व श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया। इस अवसर पर राज्यपाल व अन्य अतिथियों ने स्मारिका का विमोचन किया। राज्यपाल ने इससे पूर्व विश्वविद्यालय के सामुदायिक रेडियो केन्द्र का निरीक्षण किया। समारोह में छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय नियामक आयोग के अध्यक्ष अंजनी कुमार शुक्ला, अटल बिहारी बाजयेपी विश्वविद्यालय, बिलासपुर के कुलपति डॉ. गौरीशंकर शर्मा, सीवी रमन विवि के विभिन्न संकायों के संकायाध्यक्ष, विभागाध्यक्ष, विभागीय अधिकारी कर्मचारी, प्राध्यापक, छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

 

The Voices FB