एजुकेशन / जॉब्स

एजुकेशन / जॉब्स

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By वाहिद खान

मनोरा स्कूल के जर्जर भवन के निर्माण के लिए शिक्षा विभाग में ग्रामीण कई बार आवेदन दे चुके हैं। इसके अलावा जनदर्शन में भी स्कूल की समस्या रखी गयी है लेकिन शिक्षा विभाग की तरफ से इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं की गयी है। शिक्षकों ने बताया कि भवन को लेकर यह चिंता सता रही है कि कब भवन टूट कर गिर जाये, कोई नहीं जानता।

यह मामला है मनोरा विकासखंड मुख्यालय के नजदीक ग्राम पंचायत माड़ो गोवारु के प्राथमिक शाला का, जहाँ भवन की हालत यह है कि छत धीरे-धीरे टूट रही है। स्कूल के भवन का निर्माण 2013-14 में किया गया था। शिक्षकों का कहना है कि शिक्षा विभाग को 2016 से आवेदन देते आ रहे हैं और अब 2019 आ गया है मगर भवन निर्माण नही हो पाया है। स्कूल की इस हालत के बाद बच्चे खुले आसमान में पढ़ रहे हैं।

शिक्षको का कहना है कि इस भवन निर्माण के लिए कई बार लिखित और मौखिक रूप से आवेदन पत्र दिया गया है और बच्चों को मैदान में शिक्षा प्राप्त करना पड़ रहा है। स्कूल में शिक्षा के दौरान हादसों में बाल-बाल बच्चों का जीवन बचा है, जिसके कारण भवन में बच्चों को नही पढ़ाया जाता है। बरसात के दिनों में आंगनबाड़ी में शिक्षा देते है और गर्मी और ठंड में बाहर बच्चों को शिक्षा देते हैं। भवन का हाल यह है कि कब छत बच्चों पर गिर जाए इसका कोई ठिकाना नहीं है। 3 साल से मैदान में शिक्षा दी जा रही है लेकिन अभी तक शिक्षा विभाग की ओर से अभी तक कोई भी पहल नहीं की गयी।

इस मामले में शिक्षिका मेरीरोज़ कुजूर ने कहा है कि हम शिकायत कर करके थक चुके हैं। पिछले तीन साल से यह समस्या बनी हुई है।

ओडिशा

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

भुवनेश्वर। उड़ीसा में मैट्रिक परीक्षा का प्रश्नपत्र वायरल होने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को एक बार फिर मैट्रिक परीक्षा का प्रश्नपत्र वायरल हो गया। इससे पहले परीक्षा के पहले 22 फरवरी को मातृभाषा का प्रश्नपत्र वायरल हो गया था। जबकि मंगलवार को अंग्रेजी का प्रश्नपत्र वायरल हुआ है। एक हफ्ते के अंदर इस तरह की दूसरी घटना से स्पष्ट हो गया है कि राज्य सरकार और शिक्षा विभाग ने पहले दिन की घटना से कोई सबक नहीं लिया है।इस मामले में कोरापुट के डीईओ ने बंधुगांव थाना में एक लिखित शिकायत दर्ज कराई है।

जानकारी के अनुसार सोमवार को बलांगीर जिला के संइतला इलाके में मैट्रिक के अंग्रेजी प्रश्नपत्र वायरल होने का मामला प्रकाश में आया है। यह प्रश्नपत्र उस समय वाट्स एप पर वायरल हुआ जब राज्य के विभिन्न केंद्रों पर परीक्षा चल रही थी। अंग्रेजी प्रश्नपत्र के सेट ‘ए’ का प्रश्नपत्र किसी ने सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। हालांकि यह प्रश्नपत्र किस स्कूल से वायरल हुआ है, इसका पता नहीं चल सका। इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की अध्यक्ष जाहान आरा बेगम ने कहा है कि असली प्रश्नपत्र के साथ मिलाने से यह स्पष्ट हो गया है कि अंग्रेजी का प्रश्नपत्र वायरल नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि यह कुछ लोगों की शरारत है।

गौरतलब है कि 22 फरवरी से मैट्रिक परीक्षा आरंभ हुई है। पहले दिन मातृभाषा की परीक्षा थी और परीक्षा के समय ही नुआपड़ा, ढेंकानाल एवं कोरापुट जिला में उसका प्रश्नपत्र सोशल मीडिया में वायरल हो गया था। ऐसे में परीक्षा को शांतिपूर्ण ढंग से एवं बिना नकल के स्वच्छ परीक्षा कराने का दंभ भर रहे बोर्ड अधिकारियों के होश उड़ गए थे। उस समय जनशिक्षा मंत्री बद्री नारायण पात्र ने अपनी प्रतिक्रिया में मातृभाषा के प्रश्नपत्र के वायरल होने की घटना को खारिज कर दिया था। लेकिन बाद में बोर्ड के अधिकारियों ने प्रश्नपत्र के वायरल होने की घटना को स्वीकार करने के साथ इसके लिए जिम्मेदार अधिकारी एवं कर्मचारी के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए नुआपड़ा, ढेंकानाल, कोरापुट के डीइओडब्लू को निर्देश दिया था। बोर्ड के निर्देशानुसार पुलिस ने मामला दर्ज कर सात लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया है। अब एक बार फिर अंग्रेजी का प्रश्नपत्र सोशल मीडिया में वायरल होने की घटना ने बोर्ड परीक्षा के सुचारू संचालन पर गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं।

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रायपुर। स्‍कूल शिक्षा विभाग ने विभाग के अधिनस्‍त कार्यरत साढ़े तीन दर्जन कर्मचारियों का स्‍थानांतरण किया है। विभाग ने मंगलवार को यह 43 कर्मचारियों की स्‍थानांतरण आदेश सूची जारी करते हुए आगामी आदेश तक उनकी पदस्‍थापना की है।

यह रही सूची

11

list-2list-2

list-3list-3

एजुकेशन / जॉब्स

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

नई दिल्ली। सीएसआईआर यूजीसी नेट (CSIR UGC NET 2019) के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इच्छुक उम्मीदवार जो इस परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं, वे CSIR की ऑफिशियल वेबसाइट csirhrdg.res.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। CSIR द्वारा नेट की परीक्षा विज्ञान विषय के विभिन्न क्षेत्रों में JRF और Lectureship के लिए आयोजित की जाती है। CSIR NET परीक्षा 6 जून को आयोजित की जाएगी।

CSIR UGC NET June 2019 के लिए आवेदन करने की आखिरी तारीख 18 मार्च 2019  है। आवेदन करने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम शैक्षिक योग्यता M.Sc या इसके समकक्ष/BE/BTech/Integrated BS-MS/BS-4 years/BPharma/MBBS होनी चाहिए, जबकि उम्मीदवार की आयु 1 जनवरी 2019 को 28 वर्ष से कम होनी चाहिए। यह परीक्षा 27 केंद्रों में आयोजित कराई जाएगी।

आवेदन की अंतिम तिथि- 18 मार्च, 2019
आवेदन शुल्क जमा करने की अंतिम तिथि- 18 मार्च, 2019
परीक्षा की तिथि- 16 जून, 2019 

आवेदन शुल्क

सामान्य वर्ग के लिए आवेदन शुल्क- 1000 रूपये/-
ओबीसी वर्ग के लिए आवेदन शुल्क- 500 रूपये/-
एससी/एसटी/निःशक्तजन के लिए आवेदन शुल्क- 250 रूपये/-

The Voices FB