इंटरनेशनल डेस्क। दक्षिण पूर्वी एशियाई देश फिलीपीन्‍स में एक लड़की पिछले 5 साल से कैद में रहने को मजबूर है। परिवार ने इस लड़की को पिंजरे में डाल दिया है। अगर आप सोच रहे हैं कि 29 साल की रामिया (बदला नाम) को जेल में डालने वाला परिवार कितना निर्दयी है तो आप गलत हैं। दरअसल, परिवार कहना है कि वर्ष 2014 तक रामिया आम लड़कियों की तरह से जिंदगी बिताती थी और मॉडलिंग के सपने देख रही थी। इसी बीच एक बीमारी ने उन्‍हें रामिया को पिंजरे में डालने के लिए मजबूर कर दिया।

परिवार ने बताया कि रामिया को एक मानसिक बीमारी है और उसका इलाज कराने के लिए उनके पास पैसे नहीं है। रामिया वर्ष 2014 तक एक फिलीपीन्‍स में अपने परिवार के साथ रहती थी और एक स्‍थानीय दुकान में काम करती थी। इसी बीच उसके मानसिक रोग का खुलासा हुआ।रामिया मतिभ्रम का शिकार हो गई और उसे नेगारोस प्रांत के एक अस्‍पताल में भर्ती कराया गया। करीब एक साल तक के इलाज के बाद रामिया धीरे-धीरे ठीक हो गई और डॉक्‍टर भी उसे लेकर आशान्वित हो गए।

रामिया को घर जाने की अनुमति दे दी गई लेकिन वर्ष 2015 में जब उसके पिता की तबीयत खराब हो गई तो चीजें बिगड़ती चली गईं। परिवार वाले रामिया का इलाज नहीं करा सके। डेली मेल के मुताबिक परिवार के एक मित्र ग्‍लयजेल बुल्‍लोस ने बताया कि एक बार रामिया बहुत हिंसक हो गई तो खुद उसकी सुरक्षा के लिए उसे पिंजरे में डालना पड़ा। बुल्‍लोस ने बताया कि रामिया घर के सामान को पड़ोसियों के घरों पर फेंकने लगी थी।

कई बार वह बाहर बने घरों को देखकर आश्‍चर्य जताने लगती थी और बस पकड़ने लगती थी। एक बार तो रामिया घर से निकल गई थी और एक सप्‍ताह बाद सेबू प्रांत में मिली। उन्‍होंने कहा कि रामिया को घर से भागने से रोकने के लिए उसे घर के अंदर बनाए गए छोटे से पिंजरे में डाल दिया गया है। फटे हुए कपड़े में रहने वाले रामिया को पिंजरे के अंदर ही खाना दिया जाता है। परिवार वाले लोगों से पैसे की मदद मांग रहे हैं ताकि रामिया का फिर से इलाज कराया जा सके और वह अपना मॉडल बनने का सपना पूरा कर सके।