नई दिल्ली। 21 जून शुक्रवार को पूरी दुनिया योग दिवस मनाएगी। इस साल पीएम मोदी रांची मे करीब 20,000 लोगों के साथ योगाभ्यास करेंगे। इसकी तैयारियां पूरी हो चुकी हैँ। कल पूरा विश्व भारत के साथ योग दिवस मनाएगा।

कैसे हुई योग दिवस की शुरुआत

प्रधानमंत्री की कोशिशों की वजह से आज अंतर्राष्ट्रीय  योग दिवस मनाया जाता है। प्रधानमंत्री मोदी ने साल 2014 मे यूएन जनरल असेम्ब्ली मे अपने भाषण के दौरान योग का जिक्र किया था। प्रधानमंत्री के इस पहल को दुनिया के कई नेताओं ने सपोर्ट किया था। जब योग दिवस का प्रस्ताव यूएन मे रखा गया तब 177 देशों ने उस प्रस्ताव का समर्थन किया था, जो अपने आप मे एक रिकॉर्ड है। पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 15 जून 2015 को मनाया गया। उस दौरान करीब 36,000 लोगों ने दिल्ली के राजपथ मे प्रधानमंत्री मोदी के साथ योग किया था।

21 जून की तारीख़ ही क्यों..

दरअसल, इस दिन का अपना महत्त्व है। प्रधानमन्त्री मोदी ने 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा को अपने सम्बोधन मे बताया कि 21 जून उत्तरी गोलार्थ का सबसे लम्बा दिन होता है। इस दिन सूर्य जल्दी उगता है और सबसे देर मे अस्त होता है। इसके आलावा 21 जून ग्रीष्मकालीन संक्रांति का दिन भी होता है। इसीलिए 21 जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए सबसे अच्छा दिन माना गया।

क्या है इस साल की थीम

योग दिवस हर साल,किसी थीम के साथ मनाया जाता है. इस साल इसकी थीम है ' पर्यावरण के लिए योग  yoga for climate action ' इस अवसर पर 21 जून को संयुक्त राष्ट्र मे भी मनाया जाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी रांची मे करेंगे योग

इस साल योग दिवस के दिन प्रधानमंत्री मोदी, रांची मे रहेंगे और 18000 से ज़्यादा लोगों के साथ योग करेंगे। उनके साथ झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास भी मौजूद रहेंगे।