By रमेश गुप्ता

रायपुर। नगर पुलिस अधीक्षक, आजाद चौक, रायपुर को जान से मारने की धमकी देने वाले व्यक्ति को रायपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी का नाम मनीष तिवारी है और पुलिस ने उसे मुम्बई से गिरफ्तार किया है।

इससे पहले नगर पुलिस अधीक्षक आजाद चौक, रायपुर ने थाना कोतवाली रायपुर में यह रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि दिनांक 26.11.2019 को जब वह अपने सरकारी निवास थे तो उनके मोबाईल नंबर में एक फोन आया। फोन करने वाले ने अपना नाम उमेश मिश्रा बताया। नगर पुलिस अधीक्षक ने जब फोन करने का कारण पूछा तो उसने नगर पुलिस अधीक्षक के साथ गाली गलौच करते हुए जान से मारने की धमकी दी।   

आरोपी के हौसले इतने बुलंद थे कि नगर पुलिस अधीक्षक के द्वारा समझाने के बावजूद उसने बार बार फोन कर उन्हें किसी और के नाम से रिपोर्ट कर झूठे केस में फंसाने और कोर्ट के चक्कर लगवाने की धमकी दी। 

मामले की जानकारी मिलते ही रायपुर के पुलिस उप महानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ एच शेख ने घटना को गंभीरता से लेते हुये नगर पुलिस अधीक्षक आजाद चैक को धमकी देने वाले आरोपी की पतासाजी कर गिरफ्तार करने के लिए दिशा निर्देश दिया। 

रायपुर पुलिस ने आरोप की गिरफ्तारी के लिए एक विशेष टीम का गठन किया। टीम को विवेचना के दौरान ज्ञात हुआ कि इसी अज्ञात आरोपी के विरूद्ध थाना गंज में भी आकाश पाण्डेय, केन्द्रीय जेल प्रहरी द्वारा जेल के लैण्ड लाईन नंबर में फोन कर अश्लील गाली गलौच कर धमकी देने के संबंध में अपराध पंजीबद्ध कराया गया है।

जानकारी जुटाई तो पता चला कि आरोपी द्वारा फोन कर अधिकारियों को धमकाने के मामलों के अलावा छत्तीसगढ़ के दूसरे जिलों में भी इसी तरह के बहुत से अपराध पंजीबद्ध है। 

आखिरकार पुलिस टीम ने आरोपी के मोबाईल नंबर का तकनीकी सेल से जानकारी प्राप्त कर आरोपी को लोकेट किया। जैसे ही आरोपी के  मुम्बई में होने की सूचना मिली टीम मुम्बई रवाना हो गई। 

पुलिस की टीम ने आरोपी छिपने के हर संभावित ठिकानों में रेड मारते हुये आरोपी मनीष तिवारी को नवी मुंबई से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि वह मूलतः नैनी (उत्तर प्रदेश) का निवासी है और मुंबई स्थित एक कपड़ा फैक्ट्री में सिक्युरिटी गार्ड की नौकरी करता है। 

पुलिस ने आरोपी से वारदात में प्रयुक्त सिम और मोबाईल फोन को जप्त कर लिया है। आरोपी के मोबाईल फोन की जांच करने पर उसमें छ.ग. के सभी जिलों के पुलिस, जेल एवं राजस्व अधिकारियों तथा राजनेताओं के मोबाईल नंबर सेव पाये गये। 

आरोपी को यह सभी नंबर कहां से मिले और उसके द्वारा इस तरह से फोन करके सभी के साथ गाली गलौच क्यों किया जाता था के संबंध में पुलिस, आरोपी से विस्तृत पूछताछ कर रही है। आरोपी के विरूद्ध बस्तर, बिलासपुर एवं दुर्ग में भी है अपराध एवं शिकायत दर्ज। आरोपी को गिरफ्तार कर उसके विरूद्ध अग्रिम कार्यवाही की जा रही है।