राजनीति

सरगुजा संभाग

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

 By धीरज शिवहरे

बैकुंठपुरl छतीसगढ़ के प्रथम वित्त मंत्री डॉ. रामचन्द्र सिंहदेव का जन्मदिवस उन्हें नम आंखों से श्रद्धांजलि अर्पित कर जयंती के रूप में कल बुधवार को मनाया गया l उन्हें कोरिया कुमार के नाम से भी जाना जाता था l उनके शुभचिंतक काफी हर्षो-उल्लास के साथ उनका जन्मदिवस मनाकर आशीर्वाद ग्रहण करना अपना सौभाग्य समझते थे, पर सबसे दुखद बात यह कि वो सादगी भरा अंदाज व राजनीति में अपनी स्वच्छ छवि के लिए विख्यात कोरिया कुमार खे जाने वाले और छत्तीसगढ़ के प्रथम वित्त मंत्री आज हमारे बीच नहीं हैं l

आज भी वो कोरिया के लोगों के दिलों में बसते हैं, शायद यही कारण है कि उनकी समाधि स्थल में उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने जनसैलाब पहुंचा था, जो कि कोरिया जिले के ग्रामीण अंचल व शहर से होते हुए यहां उपस्थित हुआl

यूं तो स्व.रामचन्द्र सिंहदेव के कई दिलचस्प किस्से हैं पर वे सबसे अधिक निःस्वार्थ भाव से जनता के प्रति आपसी लगाव के लिए मशहूर थेl स्व. डॉ. रामचन्द्र सिंहदेव ने युवावस्था से ही जनसेवा के लिए  राजनीति में कदम रखा और लगातार 6 बार क्षेत्र से विधायक रहे और दर्जनों विभाग के मंत्री रहेl ये 1967 से लेकर 2003 तक अविभाजित मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ की राजनीति में सक्रिय रहे परन्तु राजनीतिक समीकरण बदलते देख इनका राजनीति से मोह भंग हो गयाl इसके बावजूद वे लगातार जिले के ग्रामीण अंचलों तक जनसंपर्क में बने रहेl  महलों में रहने वाले और दर्जनों विभाग के मंत्री रहते हुए भी स्व. कोरिया कुमार ने लालबत्ती व प्रोटोकाल को दरकिनार कर जनसेवा में लगे रहेl

जलसंसाधन विभाग के थे विशेषज्ञ, दूरदराज के राजनेता व मुख्यमंत्री भी इनसे राय लेते थे

जन सेवा की भावना मन मे रखते हुए स्व. रामचन्द्र सिंहदेव ने विवाह नहीं कियाl इनके स्वर्गवास के बाद उनके राजनैतिक वंश को लेकर चर्चाओं का दौर शुरू हुआ पर हाल ही में सम्पन्न हुए विधानसभा चुनाव में स्व.कोरिया कुमार की भतीजी अम्बिका सिंहदेव स्वयं जमीनी स्तर में अपने दादा का आशीर्वाद और विचार के साथ जनता के बीच पहुंची और जनता ने भी कुमार साहब की भतीजी को क्षेत्र के विकास के लिए स्वीकार लियाl

पूर्व मंत्री, कोरिया कुमार की जयंती पर श्रद्धांजलि देने उनकी समाधि स्थल पर उनकी भतीजी बैकुंठपुर विधायक अम्बिका सिंहदेव,पी सी सी सदस्य योगेश शुक्ला पुलिस अधीक्षक कोरिया विवेक शुक्ला, कांग्रेस जिलाध्यक्ष नजीर अजहर, ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष अजय सिंह, नगरपालिका अध्यक्ष अशोक जायसवाल, जिला पंचायत अध्यक्ष कलावती मरकाम, पूर्व जिलापंचायत अध्यक्ष यवत कुमार सिंह, प्रदीप गुप्ता, दीपक गुप्ता, रियाजूदिन, बाबूराम शिवहरे, आशिष डबरे, नीरज शिवहरे, सुरेंद्र तिवारी, कल्लू सिंह, विक्की शिवहरे, ब्रिजवाशी तिवारी भूपेंद्र यादव, सोहेल अहमद, विक्रांत सिंह, मन्नू गुप्ता, लालदास महंत के अलावा पटना, चरचा, सोनहत, मनेन्द्रगढ़ से लोगों ने आकर श्रद्धांजलि दी l

बस्तर संभाग

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By संतोष ठाकुर

जगदलपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज बस्तर जिले के लोहण्डीगुड़ा विकासखण्ड के धुरागांव पहुंचे और शनिवार को होने वाली विशाल किसान आदिवासी सम्मेलन की तैयारियों का जायजा लिया और अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। कलेक्टर डॉ. अय्याज ताम्बोली ने मुख्यमंत्री को किसान आदिवासी सम्मेलन की तैयारियों के संबंध में विस्तृत जानकारी दी।

मुख्यमंत्री बघेल ने लोहण्डीगुड़ा क्षेत्र के संयंत्र प्रभावित दस गांवों से आए पंचायत प्रतिनिधियों और ग्रामीणों से बातचीत की। मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों को बताया कि संयंत्र स्थापना के लिए अधिग्रहित की गई किसानों की जमीन को वापस दिलाने का यह कार्य पूरे देश में पहली बार हो रहा है। उन्होंने ग्रामीणों को यह भी बताया कि भूमि के अधिग्रहण के एवज में दी गई राशि भी किसानों से वापस नहीं ली जाएगी और सभी दस गांवों के किसानों को उनकी जमीन वापस कर दी जाएगी। कार्यक्रम में संयंत्र प्रभावित किसानों को उनकी भूमि का दस्तावेज दिया जाएगा।

जशपुर

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By तनवीर आलम 

जशपुर। केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना स्वच्छ भारत अभियान को कागजों में पूरा करने के लिए प्रशासन की ओर से जशपुर जिले में अब तक डेढ़ अरब रुपए खर्च किया जा चुका है। यह खुलासा कुनकुरी विधायक यूडी मिंज के द्वारा विधानसभा में पूछे गए सवाल के बाद हुआ।

मिंज के तारांकित सवालों के जवाब में पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव ने बताया कि जशपुर जिले के तीनों विधानसभा क्षेत्र के 427 ग्राम पंचायतों में कुल 1 लाख 38 हजार 910 शौचालय का निर्माण कराया गया है, जिसमें 149 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। इस जानकारी में चौंकाने वाला जमीनी हकीकत यह सामने आया है कि डेढ़ अरब रुपए के लागत से निर्मित शौचालयों की हालत बेहद दयनीय है। कई ग्राम पंचायत तो ऐसे हैं जहां शौचालय का पूर्ण निर्माण हुआ ही नहीं है कागजों में शौचालय बनाकर राशि आहरण कर ली गई है। हैरानी की बात यह है कि पूर्ण ओडीएफ घोषित जिले में डेढ़ अरब रुपए पानी की तरह बहाया गया पर शौचालय का निर्माण नहीं हो सका।

आंकड़ों की बाजीगरी के लिए जिले को ओडीएफ बना दिया गया और डेढ़ अरब रुपए फूंक दिए गए। गरीबों के नाम पर जारी पैसों के इस तरह से हुए बंदरबांट को कुनकुरी विधायक ने अपने सरकार के सामने लाकर खड़ा कर दिया है। साथ ही यूडी मिंज ने विधानसभा में मिले जवाबों के जवाब में यह भी कहा कि डेढ़ अरब रुपए की हकीकत को वो जल्द सामने लाएंगे और जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करेंगे।

मंत्री टीएस सिंह से मिले जवाब

विधायक यूडी मिंज के सवालों के जवाब में पंचायत मंत्री सिंह देव ने बताया कि जशपुर जिले के 427 ग्राम पंचायत ओडीएफ घोषित किये गए हैं। अब तक कुल 1,38,910 शौचालय निर्माण किये गए हैं,  जिसमें कुल 149 करोड़ की राशि खर्च की गई है।

विधायक ने कहा गलत है जानकारी

विधायक यू डी मिंज ने बताया कि विधानसभा में जो जानकारी प्रदान की गई है, उसका ग्राम पंचायतवार परीक्षण कर वस्तु स्थिति से पंचायत मंत्री को अवगत कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि मेरे विधानसभा क्षेत्र के कई गाँव हैं जहाँ शौचालय निर्माण कार्य पूरा नहीं हुआ है और लाखों की राशि ले ली गयी है। इसके अलावा पत्थलगांव बगीचा विधानसभा के कई ग्राम पंचायत हैं, जहाँ मात्र 50 से 60 प्रतिशत ही शौचालय निर्माण किये गए हैं, जबकि मंत्री ने बताया है कि 427 ग्राम पंचायत को ओडीएफ घोषित किया गया है। विधायक मिंज ने बताया कि मुझे लगता है ओडीएफ से सम्बंधित जो जानकारी सदन में दी गई है वह विरोधाभास है।

एक भी शौचालय नहीं है

यू डी मिंज ने कहा कि बगीचा विकासखंड के महनई गांव में एक भी शौचालय में टंकी शीट नहीं है जिसकी जाँच जरूरी है अगर सदन को ही संबंधित विभाग गलत जानकारी देकर भ्रमित कर रहे तो उन पर कड़ी अनुशासनात्मक कार्यवाही करने की माँग मुख्यमंत्री और पंचायत मंत्री से करूँगा। विभाग के अधिकारी कर्मचारी जिन मदों में खर्च करना था उन मदों में राशि भी खर्च नहीं की है जबकि शौचालय निर्माण में कई प्रावधान जुड़े हुए थे।

पुरस्कार के लिए बहाए डेढ़ अरब

विधायक मिंज ने कहा कि जिले के अधिकारी सिर्फ पुरस्कार लेने के लिए डेढ़ अरब खर्च कर ओडीएफ घोषित कर दिया। पुरस्कार के लिए सभी ग्राम पंचायत को फर्जी ओडीएफ घोषित करना जिले के लिए शर्मनाक है जिसे हम सब मिलकर ठीक करेंगे।

The Voices FB