रायपुर

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By रमेश गुप्ता

रायपुर। लोकसभा निर्वाचन के दौरान मतदाताओं को अब सिर्फ मतदाता पर्ची के आधार पर मतदान करने की अनुमति नहीं होगी। मतदाता को मतदान के लिए निर्वाचन आयोग द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली वोटर स्लीप के साथ अपने पहचान का एक और दस्तावेज साथ रखना होगा। भारत निर्वाचन आयोग ने इस संबंध में अपने निर्देश में कहा है कि मतदान के लिए मतदाता परिचय पत्र के अलावा 11 अन्य दस्तावेज मान्य होंगे। आयोग ने कहा है कि मतदाता पर्ची में फोटो के अलावा अन्य सुरक्षा मानक की कमी होती है, ऐसे में इसके दुरूपयोग की शिकायतें मिलती रहीं हैं।

आयोग ने स्पष्ट किया है कि सिर्फ मतदाता पर्ची के आधार पर मतदाता को मतदान का अधिकार नहीं होगा। भारत निर्वाचन आयोग ने मतदाताओं की सहूलियत के लिए मतदाता परिचय पत्र के अलावा 11 अन्य दस्तावेज जिसमें आधार कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, केन्द्र और राज्य शासन तथा शासकीय संस्थानों द्वारा जारी फोटो पहचान पत्र, बैंक अथवा पोस्ट ऑफिस द्वारा जारी फोटोयुक्त पासबुक, पैन कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, स्वास्थ्य बीमा कार्ड, फोटोयुक्त पेंशन दस्तावेज, सासंद, विधायकों को जारी फोटो पहचान पत्र तथा रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया द्वारा जारी स्मार्ट कार्ड शामिल है। इन दस्तावेजों को पहचान पत्र के तौर पर मान्य किया गया है। इसके अतिरक्त अनिवासी भारतीय मतदान केन्द्र में पहचान पत्र के तौर पर सिर्फ अपना पासपोर्ट ही प्रस्तुत कर सकेंगे। इसके अतिरिक्त अन्य कोई भी दस्तावेज अनिवासी भारतीयों के पहचान पत्र के तौर पर मान्य नहीं होंगे।

आयोग ने स्पष्ट किया है कि पहले मतदाता पर्ची के आधार पर मतदाता मताधिकार का प्रयोग कर सकते थे। यह मतदाता पर्ची मतदाता सूची के अंतिम प्रकाशन के बाद छपकर निर्वाचन के कुछ दिन पहले ही बांटे जाते थे,  जिसमें फोटो के अतिरिक्त सुरक्षा के ज्यादा उपाय नहीं होते हैं। पहले के निर्वाचनों में मतदाता परिचय पत्र के विकल्प के तौर पर मतदाता पर्ची को मान्यता दी जा रही थी। अब जबकि 99 प्रतिशत से अधिक मतदाताओं को मतदाता परिचय पत्र जारी किया जा चुका है, ऐसे में मतदाता पर्ची के विकल्प को समाप्त किया जा रहा है। बूथ स्तर के अधिकारियों द्वारा मतदाता पर्ची का वितरण जारी रहेगा जिससे मतदाता को मतदान केन्द्र, भाग संख्या तथा सरल क्रमांक जैसी प्राथमिक जानकारियाँ उपलब्ध हो सकेंगी। इससे मतदान केन्द्र में मतदाता को असुविधा न हो। मतदाता पर्ची में इस बात का उल्लेख भी रहेगा कि मतदाता पर्ची मतदान के लिए पहचान पत्र के तौर पर मान्य नहीं होगा। ऐसे में मतदाता, मतदान के लिए उपरोक्त पहचान पत्रों में से किसी एक दस्तावेज के साथ मतदान केन्द्र में पहुँचे।

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रायपुर। उत्कृष्ट योजना के तहत दुर्ग-भोपाल अमरकंटक एक्सप्रेस को सोमवार को दुर्ग से भोपाल के लिए रवाना किया गया। बस्‍टर आर्ट की खूबसूरत झांकियों के साथ नए रंग रूप में सजी ट्रेन के कोच हल्के पीले और कत्थई रंग के नजर आए। छत्तीसगढ़ से चलने वाली इस प्रमुख ट्रेन को यहां की संस्कृति का टच दिया गया है। इस ट्रेन कोच को एलएचवी कोच से भी बेहतर बनाया गया है।

ट्रेन को उत्कृष्ट योजना के तहत सर्वसुविधायुक्त, आकर्षक, साज-सज्जा एवं सजावट के साथ तैयार किया गया है। वरिष्ठ मंडल यांत्रिक इंजीनियर एसके सेनापति ने बताया कि दुर्ग से भोपाल के बीच चलने वाली अमरकंटक एक्सप्रेस सोमवार से पूर्णतः उत्कृष्ट कोच वाली ट्रेन हो गई है। पिछले कई दिनों से अमरकंटक के कोचों को उत्कृष्ट कोच बनाए जाने को लेकर काम किया जा रहा था। रायपुर डिविजन द्वारा अमरकंटक एक्सप्रेस के उत्कृष्ट रेक चलने लगा है। इसके अंतर्गत शौचालच का नवीनीकरण, बाहर के रंग विवरण, अंदर के सौन्दर्य को बढ़ाना, एलईडी. लाइट का इस्तेमाल को बढ़ावा एवं यात्रियों के लिए सुविधाओं को बढाने का प्रयास किया जा रहा है। यह प्रयास है भारतीय रेलवे द्वारा यात्रियों की यात्रा को सुखद बनाने की।

अन्‍य ट्रेनों में भी दिखेगी छत्‍तीसगढ़ की झलक

गेवरारोड से अमृतसर जाने वाली छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में भी इस योजना के तरह नवीनिकरण का काम किया जाएगा। यह छत्तीसगढ़ से चलने वाली सबसे पुरानी और सबसे ज्यादा लंबी दूरी की ट्रेन है। इस ट्रेन के साथ ही रायगढ़ से गोंदिया तक चलने वाली जनशाताब्दी एक्सप्रेस भी जल्द नए रंग-रूप में ढ़ली नजर आएगी। छत्तीसगढ़ से चलने वाली इन दों ट्रेनों को भी उत्कृष्ठ योजना में शामिल किया गया है।

The Voices FB