By रमेश गुप्ता

रायपुर. शहर के बीच जयस्तंभ चौक के पास हुई चाकूबाजी के आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. चश्मे के दाम पूछने को लेकर हुए मामूली विवाद पर मामा-भांजे की जोड़ी ने कोंडागांव के व्यापारी पर चाकू से जानलेवा हमला किया था, जिसमे व्यापारी की मौत हो गयी थी.

दरअसल कोंडागांव का व्यापारी इरशाद अहमद अपने दोस्तों के साथ इलक्ट्रोनिक सामान खरीदने कार से रायपुर आया था. ये सभी दोस्त कार में बैठकर मालवीय रोड में गोलबाजार थाने की ओर से जयस्तंभ चैक तरफ जा रहे थे. तभी इन लोगों को रोड के दूसरे तरफ एक चश्मे की दूकान दिखी, तो अरशद ने कार का कांच खोलकर जोर से आवाज देकर चश्मे का रेट पूछा तो दुकान में बैठे व्यक्ति ने 700 रूपये रेट बताया. तब इरशाद ने बोला कि रोड छाप चश्मा का ज्यादा रेट बता रहे हो इस बात से वह चिढ़कर गालियां देते हुए बोला कि जब खरीदने की औकात नहीं है तो रेट क्यों पूछते हो तेरे को अभी दिखाता हूं कि मैं कौन हूं.

मामूली विवाद के बाद यहाँ बात ख़त्म हो गयी. फिर सिग्नल पर अचानक दो लोग दौड़ते हुए आये और कार का कांच पीटने लगे फिर एक लड़के ने इरशाद पर चाकू से हमला कर दिया था. गंभीर रूप से घायल इरशाद को मेकाहारा अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहाँ उसकी इलाज के दौरान मौत हो गयी थी.

रायपुर एसपी अजय यादव ने मामले को गंभीरता से लेते हुए एडिशनल एसपी शहर लखन पटले, एडिशनल एसपी
अपराध अभिषेक माहेश्वरी, नगर पुलिस अधीक्षक कोतवाली अंकिता शर्मा (परि. भा.पु.से.) और गोलबाज़ार थाना प्रभारी विनीत दुबे को अज्ञात आरोपियों की पतासाजी कर जल्द से जल्द गिरफ्तार करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिये. मामले पर कार्यवाई करते हुए रायपुर पुलिस ने घटनास्थल पर जाकर आरोपियों का पता लगाने की कोशिश की, सीसीटीवी खंगाले गए और भी मुखबिर लगाया.

 

आखिरकार पुलिस ने विधानसभा क्षेत्रांतर्गत ईरानी कालोनी निवासी मोहसीन अली और शफीक अली को गिरफ्तार किया, इन दोनों ने ही चाकूबाजी की थी. ये दोनों भागने की फिराक में थे मगर पुलिस के बढ़ते दबाव के बाद इन्होने खुद को अधिकारीयों के हवाले कर दिया. मोहसीन की उम्र 25 साल है, तो वहीं शफीक 19 साल का है. मोहसीन शफीक का भांजा है. इस मामा-भांजे की जोड़ी ने ही चाकूबाजी की थी