by वाहिद खान

मनोरा | जशपुर जिले के मनोरा आस्ता थाना थानाक्षेत्र में सोमवार शाम से ही दो समुदायों के बीच तनाव की स्थिति निर्मित हो गयी है। दो पक्षो में तनाव का कारण मवेशी तस्करी बताया जा रहा है।

दरअसल, सोमवार शाम को आस्ता थाना से लगे आमगाँव के पास, एक पिकअप में गाय और बछड़ा ले जाया जा रहा था, तभी ग्रामीणों ने उसे पकड़ लिया ,फिर गौ तस्करी के शक पर ड्राइवर के साथ मारपीट हुई उल्लेखनीय है की वह ड्राइवर दुसरे समुदाय का था फिर थोड़ी देर में ड्राइवर अपने गाँव खमली चला गया और अपने गाँव वालों को मार-पीट की जानकारी दी। ड्राइवर की बात सुनते ही खमली गाँव के युवक बौखला गए और ड्राइवर के साथ जहां मार पीट हुई थी उस बस्ती में पहुंचकर उन लोगों से भिड़ गए जिन्होंने ड्राइवर को मारा था।

कहा जाता है कि दोनो पक्ष में जमकर भिड़ंत हुई लेकिन सुबह होते-होते इस मामले ने साम्प्रदायिक रंग ले लिया और सुबह से ही आस्ता थाने में भीड़ जमा होने लगी। पूर्व मंत्री गणेश राम भगत भी 3-4 गाँव के ग्रामीणों के साथ थाने पहुंचे हैँ, और मामले में जल्द गिरफ़्तारी की मांग कर रहे हैँ ।

इधर इस मामले में जशपुर एसडीओपी राजेन्द्र परिहार ने किसी भी साम्प्रदायिक भिड़ंत से इनकार कर दिया है, उन्होंने बताया कि मामले में मारपीट और अवैध तस्करी की रिपोर्ट लिखाई गई है। खमली गाँव के युवको के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कर ली गयी है और बहुत जल्द आरोपियों की गिरफ्तारी भी हो जाएगीं, स्थिति अब पूरी तरह नियंत्रण में है