अमृतसर पूर्व क्रिकेटर और पंजाब सरकार के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर ने कांग्रेस पार्टी छोड़ दी है। उन्होंने कहा कि अब उनका किसी भी राजनीतिक दल से कोई संबंध नहीं है। वह बोलीं कि वह अब सिर्फ समाजसेवी हैं और सोशल वर्कर के तौर पर वह पंजाब के लिए लड़ाई जारी रखेंगी। डॉ. कौर मंगलवार को एक कार्यक्रम में वेरका पहुंची थीं। यहीं उन्होंने यह ऐलान किया। वह अकाली-भाजपा सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रही हैं।

विधानसभा चुनावों में नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा प्रचार न करने पर डॉ. कौर ने कहा कि सिद्धू अपनी मर्जी के मालिक हैं। वह चुनाव प्रचार करने क्यों नहीं गए इसका जवाब वह खुद ही दे सकते हैं। सिद्धू अपनी कोई पार्टी बनाने की तैयारी में नहीं है। अभी उनका एरिया अमृतसर पूर्वी है। वह उसी पर ध्यान दे रहे हैं। वह अपने हलके की एक-एक सड़क बनवाएंगी, जिसके लिए सिद्धू बैठकें कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यदि उनके हलके के विकास के लिए पैसा नहीं दिया गया तो वह सरकार के खिलाफ धरना भी देंगी।

उन्होंने कहा कि कुछ कांग्रेसियों ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के कान भरे हैं, इसलिए सिद्धू का मंत्रालय बदला गया था। सिद्धू कांग्रेस के सिपाही हैं और सेवा करते रहेंगे। पंजाब में आई बाढ़ और बटाला पटाखा फैक्ट्री धमाके पर नवजोत सिंह सिद्धू की ओर से साधी चुप्पी पर पूछे गए सवाल का जवाब देते नवजोत कौर सिद्धू ने कहा कि अब उनका सरकार में कोई कोई मोह नहीं है।