स्पोर्ट्स

स्पोर्ट्स

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

गरियाबंद। उत्तराखंड में आयोजित राष्ट्रीय मास्टर गेम व्हालीबाल प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ को मेडल दिलाने वाली टीम के खिलाड़ियों ने आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से भिलाई स्थित निवास में सौजन्य भेंट की। बघेल ने इस अवसर पर खिलाड़ियों को बधाई देते हुए कहा कि खिलाड़ियों ने प्रदेश का नाम रोशन किया है।

बता दें कि है कि छत्तीसगढ़ की 50 प्लस की टीम ने देहरादून में केरल की टीम को हराकर द्वितीय स्थान और 40 प्लस की टीम ने अंको के आधार पर कांस्य पदक प्राप्त किया। आज मुख्यमंत्री बघेल से मुलाकात करने वालों में गरियाबंद से संजीव साहू, आरिफ मेमन, सूरज महाडिक, आनन्द झा, अभय गनोरकर, गिरवर निषाद शामिल थे। व्हालीबाल टीम की इस उपलब्धि पर विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी डी पी सारथी, ड्रा आर के तलवरे, दीनू पटेल, नीलाम्बर पटेल, वन्दना पांडेय, एन के वर्मा, गिरधर ठाकुर, छन्नू सिन्हा,  गिरीश शर्मा, दानवीर साहू, लोकेश ध्रुव, विजय सिन्हा, विकास रोहरा, हरमेश चावड़ा, ममता राठौर, मुकेश दासवानी, सन्दीप सरकार, रितिक सिन्हा और विजय कश्यप ने बधाई दी है।

स्पोर्ट्स

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

रांची। महेंद्र सिंह धोनी के होम ग्राउंड रांची के जेएससीए मैदान पर खेले गए तीसरे वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया ने टीम इंडिया को 32 रन से मात दी है और पांच मैचों की वनडे सीरीज में अपनी पहली जीत दर्ज की है। महेंद्र सिंह धोनी शुक्रवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वनडे मैच में जब बल्लेबाजी के लिए मैदान में उतरे तो दर्शकों ने तालियों की गड़गड़ाहट और मोबाइल की लाइट जलाकर उनका स्वागत किया। लेकिन, 20वें ओवर में उनके आउट होते ही मैदान में सन्नाटा पसर गया।

लोगों को उम्मीद थी कि धोनी आज शानदार पारी खेलेंगे लेकिन वे 26 रन पर आउट हो गये। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान जब अपने घरेलू मैदान पर बल्लेबाजी करने उतरे तो 40 हजार दर्शकों से खचाखच भरा जेएससीए का स्टेडियम मोबाइल फोनों की रोशनी से जगमगा उठा और लोगों ने धोनी-धोनी के नारे लगा कर उनका स्वागत किया गया। पूरे मैदान में दर्शक दीर्घा में लोग अपने स्थान पर खड़े हो गए और मोबाइल फोन की रोशनी के कारण मैदान का नाजारा ऐसा था जैसे-जैसे हजारों जुगनू निकल आए हो। धोनी ने भी लोगों को निराश नहीं किया और 27 रन पर तीसरा विकेट गिरने के बाद मैदान पर उतरे धोनी ने कप्तान कोहली के साथ मिलकर स्कोर बोर्ड को स्थिरता प्रदान की।

उन्होंने ने बहुत लंबी पारी नहीं खेली। लेकिन, उन्होंने 42 गेंदों में दो चौके और एक छक्के की मदद से 26 रन बनाए और भारतीय टीम का स्कोर 86 रन तक पहुंचाया। 20वें ओवर की पहली गेंद पर धोनी को ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर जांपा ने बोल्ड किया।

Tags:

वीमेन वर्ल्ड

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

नई दिल्ली भारतीय महिला टीम सोमवार से इंग्लैंड के खिलाफ शुरू हो रही है। पिछले न्यूजीलैंड दौरे पर टीम को 0-3 से हार का सामना करना पड़ा था। न्यूजीलैंड में टी-20 में सूपड़ा साफ होने से पहले टीम ने वन-डे सीरीज को 2-1 से अपने नाम किया था। भारत ने मुंबई में खेले गए तीन मैचों की वन-डे सीरीज में इंग्लैंड को 2-1 से हराया है। टी-20 टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर की चोट से उबर नहीं पाई हैं और उनकी गैर मौजूदगी में लय में चल रही सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना टीम की अगुवाई करेंगी जहां उनके पास नेतृत्व क्षमता को साबित करने का मौका होगा।

कप्तान पर प्रदर्शन का दबाव

हरमनप्रीत की गैरमौजूदगी में खेलेगी टीम हरमनप्रीत की गैरमौजूदगी में सीनियर खिलाड़ी और वन-डे टीम की कप्तान मिताली राज को तीन मैचों की इस सीरीज में अहम भूमिका निभानी होगी। न्यूजीलैंड दौरे पर पहली दो टी-20 में मिताली को टीम में जगह नहीं दी गई थी और तीसरे टी-20 में 24 रन की उनकी नाबाद पारी भी टीम को जीत नहीं दिला सकी। टीम में वापसी कर रही वेदा कृष्णामूति के प्रदर्शन पर भी निगाहें लगी होंगी जिन्हें 2018 टी-20 विश्व कप में खराब प्रदर्शन के बाद बाहर कर दिया गया था।

प्रिया पूनिया और डी हेमलता की जगह टीम में शामिल हुई हरलीन देओल और भारती फुलमाली भी खुद को साबित करना चाहेंगी। मानसी जोशी की जगह बायें हाथ की गेंदबाज कोमल जनजाद अंतरराष्ट्रीय पदार्पण कर सकती है। तेज गेंदबाजी की अगुवाई शिखा पांडे करेंगी। टीम में पांच विशेषज्ञ स्पिनरों को जगह मिली है। टीमें इस प्रकार हैं:-

स्मृति मंधाना (कप्तान), मिताली राज, जेमिमा रोड्रिग्स, दीप्ति शर्मा, तानिया भाटिया, भारती फुलमाली, अनुजा पाटिल, शिखा पांडे, कोमल जांजड़, अरूंधति रेड्डी, पूनम यादव, एकता बिष्ट, राधा यादव, वेदा कृष्णमूर्ति, हरलीन देओल।

स्पोर्ट्स

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

नई दिल्ली। भारत व ऑस्ट्रेलिया के बीच रांची में पांच वनडे मैचों की सीरीज का तीसरा मुकाबला खेला जाएगा। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के लिए यह मैच बेहद भावुक हो सकता है। धोनी उम्र के जिस पड़ाव पर हैं, उसे देखते हुए यह संभावना बन रही है कि अपने घर में उनका यह आखिरी मैच होगा। झारखंड राज्य क्रिकेट एसोसिएशन ने इस मैच के लिए खास तैयारी की है। दरअसल जेएससीए में पवेलियन स्टैंड का नाम धोनी के नाम पर रखा जा रहा है और इसके लिए सारी तैयारियां भी पूरी की जा चुकी हैं। स्टैंड पर माही का नाम बड़े-बड़े अक्षरों में लिख दिया गया है। इसके उद्घाटन के लिए जब धोनी से संपर्क किया गया तो उन्होंने कमाल का जबाव देते हुए इसके लिए मना कर दिया। उनका जबाव जानने के बाद आप भी धोनी की तारीफ किये बिना नहीं रह पाएंगे।

झारखंड राज्य क्रिकेट एसोसिएशन ने तीसरे वन-डे से पहले रांची के राजकुमार व अपने स्टार क्रिकेटर धोनी के नाम पर पवेलियन का नामकरण भी कर दिया है। हालांकि, धोनी ने अपने नाम पर बने इस 'धोनी पवेलियन' का उद्घाटन करने से मना कर दिया। इसके पीछे धोनी ने कारण दिया, 'क्या कोई व्यक्ति अपने ही घर में उद्घाटन करता है।'

15 साल के करियर में 340 वन-डे खेल चुके धोनी ने जिस शहर और मैदान में क्रिकेट की शुरुआत की। उस मैदान पर शुक्रवार को वो आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच खेलेंगे। यह बात हम नहीं कह रहे हैं, बल्कि क्रिकेट पंडित सहित दर्शक और धोनी के फैंस के मन में यह बात घर कर रही है।
2004 में अंतर्राष्ट्रीय करियर की शुरुआत करने वाले एमएस धोनी 2014 में टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह चुके हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि वह 2019 विश्व कप के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे। अगर ऐसा होता है तो 8 मार्च को रांची में खेला जाने वाला मैच उनके शहर में आखिरी मैच के रूप में होगा। धोनी ने इस मैदान पर अब तक तीन वन-डे खेले और सिर्फ 21 रन बनाए हैं। ऐसे में वे शुक्रवार को बड़ी पारी खेलकर इसे यादगार बनाना चाहेंगे। 

स्पोर्ट्स

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

नई दिल्ली। भारत में क्रिकेट के प्रति दीवानगी से सभी वाकिफ हैं। जहां पूरा देश आतंकवाद के खिलाफ एक साथ खड़ा दिखाई दिया वहीं भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने भी आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले देशों के साथ पूरी तरह से संबंध खत्म करने की मांग आईसीसी से की थी। लेकिन आईसीसी के फैसले से बीसीसीआई को झटका लगा है। क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था ने बोर्ड की आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले देशों के साथ पूरी तरह से संबंध खत्म करने की मांग ठुकरा दी है। आईसीसी का कहना है कि इस तरह के मामलों में उसकी कोई भूमिका नहीं है।

गौरतलब है कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद बीसीसीआई ने आईसीसी को एक पत्र लिखा था, जिसमें आईसीसी और उसके सदस्य राष्ट्रों से आतंकवाद को पनाह देने वाले देशों से संबंध खत्म करने की मांग की गयी थी। पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

बता दें कि पुलवामा हमले के बाद दोनों देशों के बीच बढ़े तनाव के मद्देनजर टीम इंडिया से इस मैच का बहिष्कार करने की मांग की गई है। इसमें सौरव गांगुली और हरभजन सिंह जैसे क्रिकेट जगत के कुछ बड़े नाम भी शामिल हैं। हालांकि, बीसीसीआई की प्रशासकों की समिति (सीओए) ने इस मामले में अब तक कोई फैसला नहीं लिया है। उसका कहना है कि उसे सरकार के आदेश का इंतजार है।

Tags: , ,

The Voices FB