रायपुर, राज्य ब्यूरो। Government Decision: छत्तीसगढ़ सरकार ने अतिरिक्त धान को बेचने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। धान ई-नीलामी के माध्यम से खुले बाजार में बेचा जा रहा है। मार्कफेड की रिपोर्ट के अनुसार राज्य के 14 जिलों में धान अतिरिक्त रहने की उम्मीद है।

इसमें सबसे ज्यादा राजनांदगांव में तीन लाख 39 हजार टन से अधिक का अनुमान है। धान की नीलामी के लिए पंजीयन की प्रक्रिया चल रही है। टेंडर हासिल करने वालों को धान के परिवहन की व्यवस्था स्वयं करनी होगी। पहला टेंडर तीन मार्च को खुल सकता है।

मार्कफेड के प्रबंध संचालक की तरफ से सभी कलेक्टरों को पत्र भेजकर उनके जिलों के सभी राइस मिलरों को नीलामी की प्रमुख नियम शर्तों से अवगत कराने का कहा गया है। पत्र में दो दिनों के भीतर मिलरों की बैठक आयोजित कर उन्हें पूरी जानकारी देेने के लिए कहा गया है।

अफसरों के अनुसार करीब 20.79 लाख टन धान अतिरिक्त रहने की संभावना है। इस अतिशेष धान की नीलामी के लिए राज्य सरकार ने सैद्धांतिक सहमति दी है।