By पुनेश यादव

कांकेर। प्रदेश के वाणिज्य (आबकारी) एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने छात्रावास दिवस पर पीएमटी छात्रावास कांकेर में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षा ही एक ऐसा धन है, जिसे कोई चोरी नहीं कर सकता, बांटने से बढ़ता है और अंतिम सांस तक साथ देता है। कलम में बड़ी ताकत होती है, सभी लोग पढ़ें और आगे बढ़ें।



उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्भूपेश बघेल की सरकार ने पदभार ग्रहण करते ही सबसे पहले किसानों का कर्ज माफ किया, सरकार द्वारा तेंदूपत्ता की पारिश्रमिक दर भी बढ़ा दी गई है। तेंदूपत्ता संग्राहकों को अब प्रति मानक बोरा 4 हजार रूपए के दर से पारिश्रमिक प्राप्त होगा। उन्होंने पेसा कानून का पालन करने की समझाइश देते हुए कहा कि बस्तर संभाग की विकास में कमी आने नहीं दी जाएगी। छात्रों की मांग पर श्री लखमा ने पीएमटी छात्रावास के लिए नवीन भवन बनाने हेतु आश्वस्त किया तथा कहा कि महाविद्यालयीन छात्र-छात्राओं की छात्रवृत्ति दर बढ़ाने का भी प्रयास किया जाएगा।

मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी ने अपने छात्र जीवन को याद करते हुए बताया कि नवीन कॉलेज भवन बनने के पूर्व सुविधाओं की कमी थी, उसके बावजूद उस समय के छात्र-छात्राओं ने कड़ी मेहनत कर अपने मुकाम को हासिल किया और देश और प्रदेश में विभिन्न पदों को सुशोभित करते हुए कांकेर जिले का नाम रोशन किया। उन्होंने ने कहा कि बस्तर संभाग को कैसे आगे बढ़ाया जाए, इस दिशा में सोचने की जरूरत है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सोच है कि बस्तर विकास प्राधिकरण का अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष स्थानीय विधायक ही बनें। श्री तिवारी ने कहा कि आदिवासी मंत्रणा परिषद का गठन बहुत जल्दी होगा। जल, जंगल और जमीन का अधिकार वनवासियों को मिलेगा, स्थानीय स्तर पर विभिन्न पदों की भर्ती होगी।

उन्होंने छात्रावास दिवस पर छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुए शिक्षा के प्रति विशेष ध्यान देने के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा कि अच्छा पढ़ाई करें और विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति कर अपने जिला एवं राज्य का नाम रोशन करें।