बस्तर संभाग

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

नेत्र संबंधित हर जानकारी मिलेगी अब वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से

By संतोष ठाकुर

जगदलपुर। बस्तर के नेत्र विशेषज्ञ चिकित्सक जल्द ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए नेत्र विभाग के बड़े-बड़े सर्जनों से अपनी समस्याओं को लेकर चर्चा कर सकेंगे। साथ ही मरीजों के आंखों की बीमारी को लेकर अन्य दवाइयों व इलाज को लेकर जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। जिसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि महारानी अस्पताल के पुराने डीन कार्यालय में टावर लगाया जा रहा है। जिससे कि नेत्र विभाग में सेट टॉप बॉक्स के साथ छतरी व टेलीविजन भी लगाया जा रहा है। जो जल्दी राजधानी के चिकित्सकों से जुड़ जाएगा।

टावर के संबंध में चिकित्सक पीएल मोरिया ने बताया कि नेत्र विभाग में लगने वाले टेलीविजन के चलते बस्तर के चिकित्सक अपने नोडल अधिकारी से चर्चा करने के साथ ही अपनी समस्याओं को लेकर भी संवाद भी कर सकेंगे। इस टेलीविजन के लगने से नेत्र विभाग के बड़े बड़े सर्जन से नेत्र संबंधित हर जानकारी को आसानी से प्राप्त किया जा सकेगा। साथ ही नेत्र की समस्याओं से ग्रसित मरीजों को छोटी-छोटी तकलीफों के साथ ही ऑपरेशन के लिए राजधानी तक दौड़ नहीं लगाना पड़ेगा। जिससे कि उनका इलाज अब यही संभव हो जाएगा। वहीं नेत्र विभाग की ओर जाने वाले मार्ग जर्जर होने के कारण सीढ़ी को भी तोड़ दिया गया है। जिससे दवाइयों को ले जाने वाले ट्रक आसानी से वार्ड तक पहुंच सकेंगे।

Tags:
Previous Next

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By पुनेश यादव

कांकेर। जिले में 70वें गणतंत्र दिवस हर्षोल्लास के साथ गरिमामय वातावरण में मनाया गया। सभी शासकीय कार्यालयों में प्रातः ध्वजारोहण कर राष्ट्रगान हुआ। जिला स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह स्थानीय शासकीय नरहरदेव उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के मैदान में आयोजित किया गया, जहां पर प्रातः 9 बजे मुख्य अतिथि भानुप्रतापपुर विधानसभा क्षेत्र के विधायक मनोज सिंह मण्डावी ने ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली। इसके बाद उन्‍होंने परेड का अवलोकन किया। उन्होंने शहीदों के परिवारों को शाल एवं श्रीफल भेंट कर सम्मानित भी किया। इस अवसर पर जिले की कलेक्टर रानू साहू एवं पुलिस अधीक्षक केएल ध्रुव उनके साथ मौजूद थे।

मुख्य अतिथि मण्डावी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के ’’जनता के नाम संदेश’’ का वाचन किया। संदेश वाचन में बताया गया कि प्रदेश के 16 लाख 65 हजार किसानों का लगभग 6 हजार 230 करोड़ रूपये का अल्पकालिक कृषि ऋण माफ कर दिया गया है, साथ ही यह घोषणा की गई कि किसानों की लगभग 15 वर्षो से लंबित सिंचाई कर की बकाया राशि को मिलाकर अक्टूबर 2018 तक सिंचाई कर की 207 करोड़ रूपये की बकाया राशि भी माफ कर दी जाएगी, जिससे लगभग 15 लाख किसानों को राहत मिलेगी।

रबी फसलों के लिए बंद पड़ी सिंचाई सेवाओं को तत्काल प्रभाव से पुनः प्रारंभ करने का निर्णय भी लिया गया है। गांवों के विकास के लिए वहां उपलब्ध संसाधनों के ’’वैल्यू एडीशन’’ की नीति अपनाने का संकल्प लिया गया है। वन अधिकारों की मान्यता से संबंधित अधिनियम का उचित ढंग से क्रियान्वयन करने, पट्टा निरस्ती मामलों पर पुनर्विचार, सामुदायिक वन अधिकार प्रदान करने, कृषि हेतु खाद, बीज, कृषि उपकरण, समतलीकरण, सिंचाई सुविधाएं प्रदान करने जैसे कार्यांे में तेजी लाई जाएगी।

तेन्दूपत्ता संग्रहण पारिश्रमिक दर 25 सौ रूपये प्रति मानक बोरा से बढ़ाकर 4 हजार रूपये करने का निर्णय लिया गया है। 05 डिसमिल से कम भू-खण्डों की खरीदी, बिक्री, हस्तांतरण, पंजीकरण से रोक हटा दी गई है एवं जमीन के डायर्वसन की प्रक्रिया का भी सरलीकरण किया जा रहा है। शासकीय विभागों में ’’जेम’’ के स्थान पर छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम से सामग्री खरीदी का निर्णय लिया गया है। आम जनता को लाल-फीताशाही तथा सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाने से बचाने के लिए ’’छत्तीसगढ़ लोक सेवा गारंटी अधिनियम’’ के तहत निर्धारित समय-सीमा में कार्य सुनिश्चित कराया जाएगा।

स्वतंत्र प्रेस के समर्थन में पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की कार्यवाही प्रारंभ कर दी गई है। मुख्यमंत्री के संदेश वाचन में बताया गया कि गंभीर रूप से बीमार वयोवृद्ध नागरिकों के रहने तथा उपचार के लिए ’’पैलेटिव केयर यूनिट’’ बनाने का निर्णय लिया गया है।

मुख्यमंत्री के संदेश वाचन पश्चात मुख्य अतिथि मनोज सिंह मण्डावी द्वारा शांति का प्रतीक श्वेत कपोत तथा हर्ष एवं उमंग के प्रतीक गुब्बारे नील गगन में छोड़े गये। हर्ष फायर तथा राष्ट्रपति की जयघोष पश्चात पुलिस, होमगार्ड, वन रक्षक, एनसीसी, एनएसएस और स्काउड एवं गाइड के कैडिटों द्वारा आकर्षक मार्चपास्ट किया गया, जिसमें 12 प्लाटून शामिल हुए। मार्चपास्ट के बाद स्कूली छात्र-छात्राओं द्वारा सामूहिक व्यायाम का प्रदर्शन किया गया तथा उसके बाद विभिन्न शैक्षणिक संस्थाओं- विशेष आवासीय दिव्यांग प्रशिक्षण केन्द्र बागोडार, शासकीय कन्या आश्रम सिंगारभाट, केन्द्रीय विद्यालय कांकेर, विवेकानंद पब्लिक हाई स्कूल कांकेर, नरहरदेव हायर सेकेण्डरी स्कूल कांकेर, सेंट माईकल स्कूल गोविंदपुर, पंडित विष्णुप्रसाद शर्मा हायर सेकेण्डरी स्कूल गोविंदपुर, शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कांकेर, सरस्वती शिशु मंदिर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय गढ़पिछवाड़ी, जवाहर नवोदय विद्यालय करप तथा कस्तूरबा बालिका आवासीय विद्यालय अंतागढ़ के छात्र-छात्राओं द्वारा मनभावन सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये।

सांस्कृतिक कार्यक्रम के बाद स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, स्कूल शिक्षा विभाग, वन विभाग, पशुधन विकास विभाग, मछलीपालन विभाग, रेशम विभाग, आदिवासी विकास विभाग, जल संसाधन विभाग, कृषि, उद्यानिकी, महिला एवं बाल विकास विभाग, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, जिला पंचायत, स्वच्छ भारत मिशन, नगरपालिका परिषद कांकेर, जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क, लोक निर्माण विभाग, अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण (क्रेडा) इत्यादि विभागों द्वारा शासकीय योजनाओं एवं कार्यक्रमों को रेखांकित करते हुए चलित झांकी का प्रदर्शन किया गया। गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल मार्चपास्ट, सांस्कृतिक कार्यक्रम, झांकी सहित उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारी कर्मचारियों को पुरस्कृत किया गया।

पुरस्कारों का वितरण

मार्च पास्ट गैर शालेय वर्ग में प्रथम स्थान जिला महिला पुलिस बल, द्वितीय स्थान जिला पुलिस बल, तृतीय स्थान नगर सेना तथा शालेय वर्ग में प्रथम स्थान शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कांकेर , द्वितीय एनसीसी जुनियर डिविजन उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नरहरदेव कांकेर और तृतीय स्थान पर एनसीसी बालिका जुनियर नरहरदेव उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कांकेर को प्राप्त हुआ। बेस्ट प्लाटून कमांडर गैर शालेय वर्ग में जिला पुलिस बल उप निरीक्षक संदीप कुमार, शालेय वर्ग-एनसीसी जुनियर डीविजन शासकीय नरहरदेव उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कांकेर के नितेश देवांगन, बेस्ट पलाटून कमांडर शालेय छात्रा वर्ग- कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कांकेर के रूपाली सिंह को पुरस्कृत किया गया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम में भाग लेने पर विशेष आवासीय प्रशिक्षण केन्द्र दिव्यांग बागोडार के छात्र, छात्राओं को स्मृति चिन्ह और मुख्य अतिथि मण्डावी द्वारा तीन हजार रूपये नगद पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया। सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रथम पुरस्कार- कस्तुरबा गांधी आवासीय कन्या विद्यालय अंतागढ़, द्वितीय पुरस्कार-शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कांकेर और तृतीय पुरस्कार- आदिवासी कन्या आश्रम सिंगारभाठ कांकेर को प्रदान किया गया। विभागीय झांकी में प्रथम पुरस्कार- जिला पंचायत कांकेर, द्वितीय पुरस्कार- आदिम जाति कल्याण विभाग और तृतीय पुरस्कार- शिक्षा, राजीव गांधी, साक्षरता मिशन संयुक्त रूप से प्रदान किया गया। सामूहिक व्यायाम प्रदर्शन के लिए निदेशक आबिद खान और कृष्णमूर्ति शर्मा को प्रतीक चिन्ह भेंट कर उनका सम्मान किया गया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी, जिला पंचायत अध्यक्ष सुभद्रा सलाम, जिला उपाध्यक्ष कृष्णा देवी सिन्हा, पूर्व विधायक शंकर ध्रुवा एवं सुमित्रा मारकोले, नगर पालिका परिषद कांकेर के अध्यक्ष जितेन्द्र ठाकुर एवं उपाध्यक्ष रमशीला साहू, जनपद पंचायत कांकेर अध्यक्ष पुष्पा सलाम, भरत मटियारा, जिला एवं सत्र न्यायाधीश हेमन्त सराफ, पुलिस उप महानिरीक्षक टी.आर पैकरा, जिला पंचायत सीईओ ऋचा प्रकाश चौधरी, वनमंडलाधिकारी जे श्रीराम, संयुक्त कलेक्टर सी.एल. मार्कण्डेय, एसडीएम भारती चन्द्राकर सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी-कर्मचारी, गणमान्य नागरिक, छात्र-छात्राएं, पत्रकारगण तथा बड़ी संख्या में नगरवासी उपस्थित थे। कार्यक्रम में मंच संचालन सुरेश चंद्र श्रीवास्तव, अनिल शर्मा एवं सीमा वाजपेई द्वारा किया गया।

लालिमा कार्यक्रम का शुभारंभ

गणतंत्र दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि मनोज सिंह मण्डावी ने लालिमा कार्यक्रम का शुभारंभ भी किया। एनीमिया उन्मुलन के लिए यह कार्यक्रम भानुप्रतापपुर एवं नरहरपुर विकासखण्ड में संचालित किया जाएगा, इसके अंतर्गत 15 वर्ष से 49 वर्ष आयु वर्ग की महिलाओं की खून जांच किया जाकर उन्हें आयरन की गोलियां दी जाएगी।

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By संतोष ठाकुर

जगदलपुर। नक्सलियों द्वारा एक और जहां बंद का आव्हान किया गया है। वहीं दूसरी ओर इसका असर यात्री बसों के साथ ही आमजन पर भी दिखाई नहीं दे रहा है। अंदरूनी क्षेत्रों में एक और जहां बसे दौड़ रही है। वहीं दूसरी ओर सुकमा, बस्तर, नारायणपुर व अन्य क्षेत्रों में पुलिस द्वारा कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की तैनात है। 26 जनवरी को देखते हुए बस्तर के सातों जिलों में झंडा फहराने के लिए अपने अपने ध्वजारोहण स्थल वीआईपी आज पहुंचने लगे हैं।

बस्तर में तैनात सभी सुरक्षा बल के जवान अंदरूनी इलाकों में गश्त पर निकल चुके हैं। इस बार रेल विभाग द्वारा तैनात आरपीएफ बल के साथ जिला बल संयुक्त रूप से उन इलाकों में सर्चिंग के लिए निकल चुके हैं जिन इलाकों में नक्सली पटरियों को खासकर नुकसान पहुंचाते हैं। सुकमा एसपी जितेन्द्र शुक्ला का कहना है कि अभी तक नक्सलियों द्वारा किसी भी प्रकार से कोई घटना को अंजाम नहीं दिया गया है जबकि यात्री बसें लगातार अंदरूनी क्षेत्र में आ जा रही है।

Tags:

Subcategories

The Voices FB