सरगुजा संभाग

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By तनवीर आलम

 

जशपुरनगर। जिला मुख्यालय में स्थित नर्सिंग प्रशिक्षण केंद्र में इन दिनों स्थिति बदहाल है। यहां ट्रेनी नर्सों को जानवरों की तरह एक कमरे में 37 लोगों को ठूंस कर रखा जा रहा है। इस अव्यवस्था को लेकर अंदर ही अंदर पनप रहा आक्रोश रविवार को खुलकर सामने आ गया। जनरल नर्सिंग प्रशिक्षण केन्द्र में रविवार को जमकर हंगामा हुआ।

इस आवासीय केन्द्र के छात्रावास में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही छात्राओं ने एसपी एसएल बघेल से शिकायत की कि छात्रावास की सीनियर छात्राओं ने उनके मोबाइल को छीन लिया है। एसपी के निर्देश पर प्रशिक्षण केन्द्र पहुंची कोतवाली पुलिस की टीम के सामने छात्राओं ने प्रशिक्षण केन्द्र में अव्यवस्था का पुलिंदा खोल कर रख दिया। इस बीच प्रशिक्षण केन्द्र में हंगामा और पुलिस पहुंचने की सूचना पा कर सीएमएचओ आरएल तिवारी भी केन्द्र पहुंच गए। उन्होनें छात्राओं को समझाईश देने के साथ केन्द्र में अनुशासन के दायरे में रहने की भी चेतावनी दी।

जनरल नर्सिंग प्रशिक्षण केन्द्र में रविवार की दोपहर तकरीबन 1 बजे हंगामा शुरू हुआ। इस आवासीय प्रशिक्षण केन्द्र में रह कर प्रशिक्षण प्राप्त कर रही प्रथम वर्ष की छात्राओं ने एसपी बघेल से शिकायत किया कि छात्रावास में उनसे मोबाइल को जबरन छीन लिया गया। इन छात्राओं ने एसपी से सहायता की गुहार लगाई। शिकायत पर तत्काल कार्रवाई करते हुए एसपी ने सिटी कोतवाली प्रभारी डीएल सिंह को प्रशिक्षण केन्द्र पहुंच कर छात्राओं की सहायता करने का निर्देश दिया। इस पर कोतवाली प्रभारी दल-बल सहित मौके पर पहुंचे। यहां पहुंचने पर केन्द्र की प्रथम वर्ष की छात्राओं ने बताया कि शनिवार की रात को सीनियर छात्राओं ने उनसे मोबाइल छीन लिए थे। इस वजह से वे अपने परिजन से संपर्क नहीं कर पा रहे हैं।

नाराज छात्राओं ने पुलिस अधिकारियों को बताया कि छात्रावास में क्षमता से अधिक छात्राओं को रखा जा रहा है। एक कमरे में 37 छात्राएं निवास कर,प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं। जिससे उन्हें काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। ना तो वे ठीक से पढ़ाई कर पाती हैं और ना ही रात को सो पाती है।

इन छात्राओं को कहना था कि छात्रावास में अव्यवस्था की ओर वे पहले भी मौखिक रूप से प्राचार्य सहित अन्य जिम्मेदार अधिकारियों को शिकायत कर चुकी है,लेकिन अब तक समस्याओं के निराकरण के लिए कोई पहल नहीं की गई है। वर्ष 2006 में शहर में शासकीय एएनएम प्रशिक्षण केन्द्र के रूप में शासकीय नर्सिंग प्रशिक्षण केन्द्र की शुरूआत हुई थी। इसके लिए सीएमएचओ कार्यालय के बगल में नए भवन का निर्माण भी कराया गया था।

दो साल पहले एएनएम प्रशिक्षण केन्द्र का उन्नयन कर इसे जनरल नर्सिंग प्रशिक्षण केन्द्र कर दिया गया। 120 सीटर वाले इस जीएनएम प्रशिक्षण केन्द्र में इस वक्त 69 छात्राएं निवास कर रही हैं। प्रथम वर्ष की छात्राओं की शिकायत थी कि इस साल प्रवेश लेने वाली सभी छात्राओं को एक ही कमरे में रखा गया है। इसमें ना पर्याप्त स्थान है और ना बिस्तर। एक बिस्तर में दो-तीन छात्राओं को रहना पड़ रहा है। मौके पर पहुंचे सीएमएचओ के सामने इन समस्याओं को रखा।

सीएमएचओ डॉ आरएल तिवारी का कहना है कि अतिरिक्त कमरे की व्यवस्था तत्काल करना संभव नहीं है। तात्कालिक व्यवस्था के रूप में प्रशिक्षण केन्द्र के एक क्लास रूम को खाली करा, इसमें कुछ छात्राओं को शिफ्ट किया जाएगा। मोबाइल को लेकर उपजे विवाद को शांत करा दिया गया है।  

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By तनवीर आलम

जशपुरनगर। सुरक्षा के लिए निर्माण सामग्री में करेंट प्रवाहित कर दिया गया था, उस करेंट की चपेट में पड़ोस की महिला सदस्य ही आ गयी, जिससे उसकी मौक़े पर ही मौत हो गयी। ख़बर जशपुर जिले के पत्थलगांव थाना क्षेत्र से आ रही है, जहां करेंट की चपेट में आने से एक महिला की मौके पर ही मौत हो गयी। घटना पत्थलगांव से सटे पाकरगांव की है।

जानकारी के मुताबिक निराकार अम्बष्ठ द्वारा नए घर का निर्माण कराया जा रहा है। निर्माण सामग्री चोरी न हो इसके लिए उसने निर्माण सामग्रियों में बिजली का ऐसा तार बिछा दिया, जिसे छूते ही करेंट का बड़ा झटका लग जाता। लेकिन आज इस करेंट के चलते इस घर से लगे पड़ोस की एक महिला की जान चली गयी। मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि करीब 40 या 45 वर्षीय महिला कन्द्री बाई झाड़ू लगा रही थी। इसी दरम्यान उसने बिजली करेंट प्रवाहित होने वाली लोहे के छड़ को छू दिया। करेंट का ऐसा झटका लगा कि महिला की तुरन्त मौत हो गयी। इस घटना की जानकारी पत्थलगांव पूलिस को दे दी गयी है। पुलिस जांच कर रही है।

Subcategories

The Voices FB