सरगुजा संभाग

छत्तीसगढ़

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive

By वाहिद खान

 

जशपुर/मनोरा। आदिवासी बाहुल्य जशपुर जिले के नजदीकी विकासखंड मुख्यालय मनोरा में विकासखंड होने के नाते स्वास्थ्य विभाग का बीएमओ कार्यालय और उप स्वास्थ्य केंद्र की स्थापना भले ही कर दी गई थी लेकिन यहां स्वास्थ्य संसाधनों की अत्यधिक कमी थी, जिससे ग्रामीणों को बेहतर इलाज के लिए जिला मुख्यालय रेफर करना पड़ता था। अब कुछ जरूरी इलाज की तत्काल सुविधा विकासखंड स्तर पर ही मिलने वाली है। इस संबंध में चर्चा करते हुए मनोरा विकासखंड के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. रोशन बरियार ने बताया कि मनोरा स्वास्थ्य केंद्र में उच्च तकनीक से जुड़ी एक्स-रे मशीन आ चुकी है। इसका संचालन 2 जनवरी से शुरू किया जा रहा है। यानि अब मनोरा विकासखंड के ग्रामीणों को एक्स-रे के अभाव में चिकित्सा के लिए बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। यह व्यवस्था अब विकासखंड मुख्यालय के उप स्वास्थ्य केंद्र में कम दरों में उपलब्ध होगी।

स्टाफ की कमी बरकरार

मशीनी संसाधनों का ग्रामीणों को मिलने वाले लाभ के बारे में चर्चा करते हुए डॉ. बरियार ने बताया कि उप स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सकों के साथ ही अन्य तकनीकी और गैर तकनीकी स्टाफ की कमी बनी हुई है। अगर मशीन आने के साथ ही मानव संसाधन की कमी को दूर कर दिया जाए तो लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। उन्होंने बताया कि मनोरा के उप स्थास्थ्य केंद्र में 5 चिकित्सक, 3 नर्स, 2 वार्ड ब्यॉय, 1 एक्स-रे टेक्नीशियन के पद खाली हैं। अगर इन पदों में भर्ती होकर इनकी पदस्थापना जल्द से जल्द हो जाए तो स्थिति और बेहतर हो सकती है। मनोरा विकासखंड के ग्रामीणों के लिए एक्स-रे की सुविधा का शुभारंभ 2 जनवरी से किया जा रहा है। अधिक से अधिक लोगों को इससे लाभ मिलेगा।

Subcategories

The Voices FB